सर्दी आई

 

जंगल में जब सर्दी आई
बन्दर मामा लाए रजाई
ओढ़ रजाई बैठे रहते
उछल कूद कुछ भी न करते

 
कप कप कप कप काँप रहे हैं
बैठे लकड़ी ताप रहे हैं
मंकी कैप लगाए रहते
बहुत ठण्ड है सबसे कहते

 

बच्चे बुला रहे हैं मामा
हमको नाच दिखाओ न
मामी जी को पास बुलाकर
ठुमके जरा लगाओ न

 

- नीरज त्रिपाठी

 

शिक्षा- एम. सी. ए.

कार्यक्षेत्र – हिंदी और अंग्रेजी में स्कूली दिनों से लिखते रहे हैं | साथ ही परिवार और दोस्तों के जमघट में   कवितायेँ पढ़ते रहे हैं |

खाली समय में कवितायेँ लिखना व अध्यात्मिक पुस्तके पढ़ना प्रिय है |

प्रतिदिन प्राणायाम का अभ्यास करते हैं और जीवन का एकमात्र लक्ष्य खुश रहना और लोगों में खुशियाँ फैलाना है |

कार्यस्थल – माइक्रोसॉफ्ट, हैदराबाद

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>