शादी की सालगिरह

 

बेटा आज तुम्हारी शादी की सालगिरह है आज स्नान कर लेना (नहीं नहीं आप गलत समझ रहे है , मै हर सप्ताह स्नान करता हूँ )और भगवान को पीलारंग का फुल अर्पित कर देना,!!!!
सोने दो न माँ क्यों मनहूस दिन की याद दिलाती रहती हो! फोन काट कर मै सोने ही वाला था कि मेरी नजर घडी पर गयी! सुबह के साढ़े आठ बज रहे थे, मेरी नींद हवाफुर्र हो गयी!! मैंने सोचा आज तो गयी भैंस पानी में!! नहीं नहीं इसलिए नहीं की सुबह के साढ़े आठ बज गए और अभी तक आप सो रहे हैं, बल्कि इसलिए कि पहली सालगिरह और अभी आपको साढ़े आठ घंटा बाद याद आ रहा है कि कभी हमारी शादी भी हुई थी !! आपको मै एक राज की बात बताऊँ, अगर आप सुखी दांपत्य जीवन जीना चाहते हैं तो चाहे कोई सा भी दिन हो, उस दिन सबसे पहले आपको wish करना आना चाहिए और अगर कंही गलती से आप लेट हो गए और किसीऔर ने पहल कर दी तो फिर सोचिये ही मत सामने वाले को शक नहीं बल्कि यकिन हो जाता है की अब आप वो पहले वाले नहीं रहे!!!! और साहब कभी कभी ये यकिन तो कई दिनों तक चलता है दरअसल इसमे हमारा फायदा भी हो जाता है भाई फोन का बिल जो कम आता है !!!!!!!
खैर मै भी आपको ये सब क्यों बता रहा हूँ !!!!! हाँ तो अब मुझे भैंस को पानी से निकलना था (आज तो मेरी खैर नहीं) मेरा मतलब है अब मुझे उनको खुश करना था तो एक ही उपाय था एक सुन्दर सी कविता उन्हें भेंट की जाये सो मैंने झट से स्नान किया, कुमार विश्वास को याद किया और एक प्यारी सी कविता लिख कर उनको सुनाया, जो आपके सुपुर्द कर रहा हूँ आशा करता हूँ आपको भी पसंद आएगी !!!!!!!!!

है बस मेरा अरमान यही
तू मेरी गरिमा बन जा मै तेरा आगाज बनू
तू मेरे दिल की चाहत मै तेरी धड़कन की आवाज बनू

तू मेरी विणा बन जा मै तेरा सितार बनू
मै अपने दिल का राजा तेरे दिल का जागीरदार बनू

तू मेरी माला मै तेरी पायल की झनकार बनू
तू मेरी मीरा बन जा मै तेरा गिरिधर गोपाल बनू

है बस एक ही अभिलाषा मेरी
तू मेरी कविता और मै तेरा गीत बनू
तू मेरी साज बन जा मै तेरा संगीत बनू
बनी रहे सदा श्रुति तू मेरी और मै तेरा अमित बनू !!

ये कविता सुन कर मेरी धर्मपत्नी बोली!!!… ‘वो सब तो ठीक है पर पहले ये बताइए कि ये गरिमा,विणा,माला,मीरा ,अभिलाषा और कविता कौन हैंजी ’ !!!!!!!!!!!!

 

 - अमित कुमार

मैं झारखण्ड के लातेहार जिले से हूँ , मैंने बिरसा प्रोद्योगिकी संस्थान सिंदरी झारखण्ड से स्नातक और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर उपाधि ली है, और अभी मै भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान खड़गपुर से रासायनिक अभियांत्रिकी में शोध कर रहा हूँ |

 

2 thoughts on “शादी की सालगिरह

  1. लाजवाब दोस्त, तुम्हारी कविता का तो कोई जवाब नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>