रिश्तो की बदलती परिभाषा

सुबह-सुबह का समय था । किरण अभी जागी ही थी की उसकी नज़र घडी की सुइयों पर पड़ी। साढ़े सात बज चुके थे। हड़बड़ाकर उठ वह जल्दी-जल्दी काम करने लगी। क्योकी वह नही चाहती थी की उसे ऑफिस में लेट होने पर उसे अपने अधिकारी को किसी प्रकार की सफाई देनी पड़े। वह यह सोच ही रही थी की तभी फ़ोन की घंटी बजने लगी।
किरण,” अब सुबह-सुबह किसका फोन है।  सूरज जरा देखना। ”
सूरज को फ़ोन उठाने के लिये बोल वह स्नानघर में चली गयी। नाश्ता तैयार करते- करते अब सवा आठ हो चुके थे। वह जितनी जल्दी कर रही थी घड़ी की सुई उतनी ही तेज़ी से घूम रह थी। तभी सूरज वहाँ आया और किरण से बोला,”किरण आज ऑफिस से छुट्टी ले लो हमे माँ को देखने हॉस्पिटल जाना है।”
किरण,”आज नही, रविवार को चलेंगे।”
सूरज,”माँ को हार्ट अटैक आया है। वो हॉस्पिटल मे एडमिट है।”
किरण,”तो क्या उनक लिएे नोकरी छोड़ दूँ। आज ऑफिस में मीटिंग है,अधिकारी आ रहे है।जीवन में आगे बढ़ने के लिये कर्म ही काम आयेगा माँ नही। ”
और इतना कह कर वह अपना पर्स लेने कमरे के भीतर चली गयी। सूरज को ज्यो का त्यों खड़ा देख उसे और गुस्सा आ गया और वह उस पर चिल्लाते हुए बोली,”मुझे ऑफिस छोड़ने जा रहे हो या ऑटो से चली जाऊ।”
सूरज,”आ रहा हूँ।”
ऑफिस जाते समय सूरज ने एक शब्द भी किरण से नही कहा। किरण को ऑफिस में छोड़कर वह सीधा होस्पिटल पहुँच गया। होस्पिटल में सूरज को अकेला देख पिताजी से रहा नही गया और वह सूरज से किरण के बारे में पूछने लगे।
पिताजी,”किरण नही आयी?”
सूरज,”आना तो चाहती थी…. किन्तु ऑफिस में एक जरूरी मीटिंग थी सो मैंने ही उसे बोल दिया की मैं माँ के पास जाता हूं , तुम सीधे वही आ जाना।”
पिताजी,”ठीक ही तो है। आखिर तुम तो हो ही यहाँ बेटा।”
सूरज ने फ़ोन कर किरण को ऑफिस से सीधे वही आने को बोल दिया। किरण सूरज को मना करना चाहती थी पर सूरज फ़ोन काट चुका था। मन ही मन माँ को बुरा भला कहती आखिर वह हॉस्पिटल में आ गयी। आई सी यू मे माँ को देख वह चिल्ला उठी माँ यह सब कैसे हुआ और सूरज तुम , तुमने मुझे बताया क्यों नही ।
सूरज,”बताया तो था।”
किरण,” पर मैं समझी की तुम्हारी माँ…….”
और कहते कहते चुप रह गयी। यह देख माँ और पिताजी को  अविश्वास ही नही हो रहा था कि आखिर उनके दिये संस्कारो मे कग कमी रह गयी थी जो आज उनकी पुत्री अपनी माँ और सास मे इस प्रकार भेद कर रही है। किरण को अपनी गलती पर बहुत दुःख हो रहा था पर अपनी गलती पर एक शब्द भी ना बोल पायी ।
आंसू की धार थी जो रुकने का नाम ही नही ले रही
थी।
- डॉ अंजू शर्मा

कार्यरत :
अतिथि व्याख्याता हिन्दी विभाग
श्री सनातन धर्म प्रकाष चन्द कन्या महाविद्यालय रूड़की हरिद्वार
षिक्षा
हेमवती नन्दन बहुगुणा विष्वविद्यालय से स्नातक व स्नातकोत्तर तथा गुरुकुल कांगडी विष्वविद्यालय हरिद्वार , उत्तराखण्ड  से पी-एच. डी.
उपलब्धियाँ :
1. मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा समाचार सेवा प्रभाग के विभागीय षब्दावली निर्माण में आयोजित बैठक में विषेषज्ञ के रूप में सहभागिता।
2. प््रासार भारती /आकाषवाणी केन्द्र देहरादून में वार्ता प्रसारण विषय ‘‘सामाजिक कार्यों में महिलाओं की भूमिका’’।
3. राष्ट्रीय षैक्षिक अनुसंधान और प्रषिक्षण परिषद् (छब्म्त्ज्) नई दिल्ली में आयोजित दो दिवसीय संगोष्ठी में ‘‘ राष्ट्रीय एकता भाषा समाज और संस्कृति ’’ पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
4. डॉ0 पीतांबर दत्त बड़थवाल हिन्दी अकादमी उत्तराखण्ड देहरादून में एक सप्ताह के षोध एवं षोध प्रविधि पाठ्यक्रम में ‘‘वर्तमान परिपेक्ष्य में वेदों एवं स्मृतियों में वर्णित कर नीति की प्रांसगिकता’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
5. भरतीय संस्कृति चैरिटेबल सोसायटी अलावलपुर हरिद्वार में आयोजित दो दिवसीय  अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन में ‘‘ प्रभा खेतान के उपन्यासों में चित्रित स्त्री षिक्षा (एक विष्लेष्णात्मक अध्ययन) ’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
6. डॉ0 पीतांबर दत्त बड़थवाल हिन्दी अकादमी उत्तराखण्ड देहरादून में एक सप्ताह के षोध प्रविधि पाठ्यक्रम में ‘‘मिथिलेष्वर के कथा साहित्य में चित्रित अंध विष्वास एवं रूढ़िवादिता’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
7. उत्तराखण्ड भाषा संस्थान देहरादून और हिन्दी भाषा एवं साहित्य सम्मेलन समिति , उत्तराखण्ड के तत्त्वाधान में आयोजित दो दिवसीय संगोष्ठी में प्रतिभाग किया।
8. भारतीय संस्कृति चैरिटेबल सोसायटी अलावलपुर , हरिद्वार के तत्त्वाधान में आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन में ‘‘प्रभा खेतान के उपन्यासों में चित्रित स्त्री षिक्षा (एक विष्लेषणात्मक अध्ययन) विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
9. भारतीय संस्कृति सेवार्थ न्यास एवं दिव्य प्रेम सेवा मिषन के संयुक्त तत्त्वाधान में आयोजित दो दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय षिक्षक कुम्भ में ‘‘साहित्य में उल्लिखित पर्यावरण अनुरक्षण ’’ विषय पर आलेख प्रस्तुत किया।
10. गुरुकुल महाविद्यालय हरिद्वार में आयोजित राष्ट्रीय षोध संगोष्ठी में ‘‘बौद्ध धर्म में वर्णित नैतिकता की अवधारणा’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
11. राजकीय डिग्री कॉलेज नानौता द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में ‘‘हिन्दी साहित्य में चित्रित पर्यावरण’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
12.  कथाकारों की कहानियों में चित्रित आतंकवादी षक्तियाँ ’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
13.  बी. एस. एम पी जी कॉलेज रूड़की (राजनीति विभाग) के तत्त्वाधान में आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में ‘‘ वर्तमान परिपेक्ष्य में नारीवादी चितंन ’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
14. राष्ट्रीय संस्कृत संस्थानम् से औपचारिक संस्कृत षिक्षणम् प्रथम दीक्षा में प्रतिभाग लिया।
15. श्री सनातन धर्म प्रकाष चन्द कन्या पी जी कॉलेज रूड़की  (रिसर्च कमेटी)के तत्त्वाधान में आयोजित महाविद्यालयी स्तरीय संगोष्ठी में ‘‘ वैदिक साहित्य में चित्रित नारी-अधिकार’’ विषय पर षोध-पत्र प्रस्तुत किया।
16. भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा 2017 षान्तिकुंज हरिद्वार के तत्वाधान में आयोजित परीक्षा को सम्पन्न कराने में योगदान।
17. Participated in the national seminar organised by regional center utterakhand  open university roorkee .
18.  Presented a paper entitled “women health state and governance ”in two days seminar organised by department of political science B.S.M. degree college roorkee.
19. Participated in two days state level workshop on “role contribution and strategies of internal quality assurance system in affiliated colleges of utterakhan.”
20. Published research paper ‘‘ नरेन्द्र कोहली के उपन्यासों में चित्रित राम कथा’’ in recent researches in social sciences and humanit ies. ISSN No 2348-3318 , ISSUE- 01 june 2017 pno. 79-81.
21. Published research paper ‘‘पुरुषीय बैसाखियों को नकारता नारीवाद’’in अपराजिता षोध पत्र vol-3 2017, ISSN No. 2454- 4310  pno. 62-64.
22. Published research paper ‘‘ ऋग्वेद में उल्लिखित पर्यावरण अनुरक्षण ’’ in  गुरुकुल षोध भारती  ISSN No. 0974-8830 , pno-71-74
23. Published research paper ‘‘ प्रभा खेतान : नारी मुक्ति व स्वतंत्र्य की अभिप्रेरक’’in  षोध दिषा , अप्रैल – जून 2014, ISSN NO 0975 735x , p no. 56- 61.
24. Published research paper ‘‘बौद्ध धर्म में वर्णित नैतिकता की अवधारणा’in बौद्धायनी , ISBN NO- 978 93 5297- 112-5 , p no. 135-138.
25. Published research paper ‘‘ प्रवासी महिला कथाकारों की कहानियों में चित्रित आतंकवादी षक्तियाँ ’’ in  जम्मू कष्मीर पाक प्रयोजित आतंकवाद , ISBN NO-978-93-85981-90-6 , p no- 331-334.
26. Published research paper ‘‘लोक साहित्य का सांस्कृतिक पक्ष – पावरी भाषा के सन्दर्भ में ’’ पद अपराजिता षोध पत्रिका vol-4 jan-dec 2018, ISSN No. 2454- 4310  p. no-45
27.विभिन्न समाचार पत्रों व पत्रिकाओं में आलेख व कविता आदि का प्रकाषन।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>