माँ की पाती

 

 

लिखती हूँ तुमको पाती , क्या याद नहीं आती
बाबा और बूढी मईया, सब भूल गए क्या ।

बचपन कि सारी बातें , कहानियों की रातें
बहना से लाड लड़ैया , सब भूल गये क्या ।

गर्मी की दुपहरिया , मट्ठा या ठंडी दहिया
सत्तू और चना लैय्या , सब भूल गए क्या ।

सर्दी की छुट्टिओं में , मौसी के घर को जाना
लखनऊ कि भूल भुलैया , सब भूल गए क्या ।

वोह आम के बगीचे , पड़ोस कि वोह इमली
पीपल कि ठंडी छाया , सब भूल गए क्या ।

दशमी की रामलीला , दीवाली का वोह मेला
चेतगंज कि नक्कटैया , सब भूल गए क्या ।

दीवाली के पटाखे , होली में रंग लगाके
पढ़ना बड़ो के पैँय़ा , सब भूल गए क्या ।

गिनती के दिन बचे हैं , तेरी याद में काटें हैं
इतनी अर्ज है तुमसे , यही मांगती हूँ तुमसे
फागुन में अबकी आना , बच्चों को संग में लाना
जी भर के देख लूंगी , माथे को चूम लूंगी
लूंगी तेरी बलैया ,
आ जाओ मेरे लल्ला , आ जाओ मेरे भैया ॥

- अतुल कुमार श्रीवास्तव

मैनेजिंग डाइरेक्टर डेल ,

अमेरिका

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>