बस्ते का बोझ

तुम ही बतलाओ मुझको
कैसे स्कूल मैं जाऊं
बोझ बस्ते का इतना भारी
उठा नहीं मैं पाऊं।

सब मुझसे कहते रहते
अच्छे बच्चे पढ़ते रोज
लेकिन है मुझसे ज्यादा
मेरे बस्ते का बोझ।

क्यों नहीं समझता कोई
मेरी यह मजबूरी
रट्टू तोता बनने से ही क्या
शिक्षा हो जाती पूरी।

थोड़ी समझ बड़ों को दे दो
ओ मेरे प्यारे भगवान
बस्ता हलका करवाओ मेरा
पढ़ना हो जाए आसान।

 

- राजकुमार जैन  ’राजन’

जन्म तिथि                               :          २४ जून

जन्म स्थान                              :           आकोला, राजस्थान

शिक्षा                                        :           एम. ए. (हिन्दी)

लेखन विधाएं                            :           कहानी, कविता, पर्यटन, लोक जीवन एवं बाल साहित्य

प्रकाशन                                    :           लगभग तीन दर्जन पुस्तकें एवं पत्र-पत्रिकाओं में                                                                              हजारों रचनाएं प्रकाशित

प्रसारण                                      :           आकाशवाणी व दूरदर्शन

संपादन                                     :           कर्इ पत्र-पत्रिकाओं का संपादन

पुरस्कार व सम्मान                   :           राष्ट्रीयप्रादेशिक स्तर पर ६० सम्मान

संस्थापक                                 :           ‘सोहनलाल द्विवेदी बाल साहित्य पुरस्कार,

                                                            ‘डॉ राष्ट्रबंधु स्मृति बाल साहित्य सम्मान एवं  कर्इ                                                                           साहित्यिक सम्मानों के प्रवर्तक,

विशेष                                       :           बाल साहित्य उन्नयन व बाल कल्याण के लिए विशेष                                                                                                    योजनाओं का कि्रयान्वयन

संपर्क                                       :           चित्रा प्रकाशन, आकोला , चित्तौडगढ़ (राजस्थान)             

One thought on “बस्ते का बोझ

  1. आदरणीय संपादक महोदय जी,
    सादर अभिवादन।।।।
    “अम्स्टेल गंगा” का जनवरी-मार्च अंक आद्योपान्त पढ़ा। साहित्य की सभी विधाओं की रचनाओं को समेट कर आपने एक खूबसूरत गुलदस्ता तैयार किया है।हिंदी साहित्य को विश्व स्तरपर पहुचाने में आपका योगदान स्तुत्य हे।
    प्रतुत अंक में आशा पांडे की कहानी “जेब को सोखती दोपहर”,एवं पुष्प सक्सेना की कहानी “अपराजिता” बहुत उत्कृष्ठ बन पड़ी है। वहीं अनीता मांडा, कीर्ति श्रीवास्तव, डॉ राकेश जोशी, संतोष श्रीवास्तव की काव्य रचनाये मन को प्रफ्फुलित करती हैं।आलेख पठनीय हैं। लघु कथाएं , व्यंग्य, भी उम्दा हे। बाल जगत की सामग्री स्तरीय ,प्रेरक हे। साहित्यिक गतिविधियों,व् पुस्तक समीक्षा पढ़कर मन को सुकून मिला। मेरी बाल कविता ” बस्ते का बोझ” प्रकाशित करने के लिए हृदय से आपका आभार व्यक्त करता हूँ।
    विश्व मंच पर हिंदी को पहचान दिलाने, प्रचारित, प्रतिष्टित करने के आपके अभियान का हार्दिक अभिनन्दन। मंगलकामनाओं सहित
    सादर,
    राजकुमार जैन राजन
    प्र. संपादक: “साहित्य समीर दस्तक” मासिक
    चित्रा प्रकाशन
    आकोला-312305 (चित्तौड़गढ़)राजस्थान, भारत
    मो: 09828219919

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>