दावत

 

घूडन आज बहुत खुश था. आज उसके बेटे की शादी जो हो रही थी.उसने एक दिन पहले, संचार कालोनी जाकर सभी घरों में निमन्त्रण बांट आया था. और सभी से शादी मे आने की कह भी आया था. वह यह भी कहना नहीं भुला था कि उसी शाम को उसने दावत का भी इन्तजाम किया है. शहर के नामी-गिरामी आचार्य भोजन पकाने के लिए लगाए गये हैं. अतः सभी को आने का आग्रह भी वह कर आया था और सभी ने उसे आश्वस्त किया था कि वे उसके बेटे की शादी मे जरुर आएंगे. साल भर पहले तक घूडन उसी कालोनी मे सफ़ाई का काम किया करता था. जबसे उसके बेटे की सरकारी नौकरी लगी है, उसने सफ़ाई का काम बंद कर दिया था ,बावजूद इसके वह प्रतिदिन कालोनी जा पहुँचता . लोगो से मिलता-जुलता . उनकी समस्या सुनता है और उसे तत्काल दूर करने का प्रयास करता है. उसके इस व्यवहार से कालोनी ले लोग उससे खुश रहते थे कभी कोई चाय पिला देता है तो कभी कॊई नाश्ता करवा देता . दीपावली-दशहारा पर उसका सभी को इंतजार रहता .इस् समय उसे ढेरॊं सारी बख्शिश भी मिल जाया करती थी.. दूसरे शहर बारात ले जाने की अपेक्षा उसने लडकी पक्षवालों को यहीं बुलवा लिया था और अपनी ओर से उसने सारे प्रबंध भी करवा दिए थे ताकि उन्हें कोई परेशानी न उठानी पडे.शादी का शुभ मुहुर्त शाम का था,अतः सुबह होते ही वह कालोनी जा पहुँचा और सभी को याद दिला आया था.सभी ने वहाँ पहुँचने की हामी कर दी थी. बारात लग चुकी थी. उसके बाद के सारे नेग-दस्तूर निपटाए जा रहे थे,,लेकिन घूडन की नजरे गेट पर लगी हुई थी. वह बेसब्री से साहब लोगॊ के आने का इन्तजार कर रहा था. धीरे-धीरे लोगो का आना शुरू हुआ, घूडन हाथ जोडकर उन सभी का अभिवादन करता और भोजन करने के लिए आग्रह करता.किसी ने कहा कि आज उसके पेट में दर्द है तो किसी ने ब्रत रखे जाने का बहाना बतलाकर भॊजन करने में अपनी असहमती जतलायी. घूडन रसोई-घर मे जाकर ब्राह्मण को भोजन पकाते हुए देख आने की कहता. लेकिन आगुन्तकॊं के बहाने अपनी जगह पर कायम थे. लोग स्टेज पर जाकर वर-वधु को आशीर्वाद देते. जेब से निकाल कर बंद लिफ़ाफ़े देते और वापिस हो लेते.वह उनके जाने से पहले एक डिब्बा वह लोगो को देता जाता जिसमे शुद्द खोये की मिठाइयां रखी गई थी.लोग उसे धन्यवाद देते हुए लौट रहे थे. घूडण इस बात पर खुश हो रहा था कि लोगो ने उसकी भेंट स्वीकार तो की.

 
दूसरा दिन तो मेहमाननवाजी मे कैसे बीत गया,पता ही नहीं चल पाया.अगले दिन सुबह जब वह कालोनी के निवासियो को धन्यवाद देने गया तो उसने कूडाघर में उन्हीं डिब्बॊं को पडा पाया,जो उसने एक दिन पहले लोगों के बीच बांटे थे. वहाँ घूडाघर मे आवारा पशुओं तथा कुत्तॊं की भीड मची हुई थी जो मिठाइयों की दावत उडा रहे थे. घूडन से यह सब देखा नहीं गया और वह उलटे पैर वापिस लौट आया था. उस दिन के बाद से उसने उस कालोनी मे जाना बंद कर दिया था.

 

- गोवर्धन यादव        

                                                                                                                                                                                                                                                                                            शिक्षा: स्नातक

*तीन दशक पूर्व कविताऒं के माध्यम से साहित्य-जगत में प्रवेश                                                                                                        *देश की स्तरीय पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का अनवरत प्रकाशन                                                                                                         *आकाशवाणी से रचनाओं का प्रकाशन                                                                                                                                                   *करीब पच्चीस कृतियों पर समीक्षाएं

प्रकाशित कृतियाँ:      * महुआ के वृक्ष ( कहानी संग्रह ) सतलुज प्रकाशन पंचकुला(हरियाणा)                                                                                               *तीस बरस घाटी  (कहानी संग्रह,) वैभव प्रकाशन रायपुर(छ,ग.)                                                                                                              * अपना-अपना आसमान (कहानी संग्रह) शीघ्र प्रकाश्य.                                                                                                                         *एक लघुकथा संग्रह शीघ्र प्रकाश्य.

सम्मान:              *म.प्र.हिन्दी साहित्य सम्मेलन छिंन्दवाडा द्वारा”सारस्वत सम्मान”                                                                                                     *राष्ट्रीय राजभाषापीठ इलाहाबाद द्वारा “भारती रत्न “                                                                                                                         *साहित्य समिति मुलताई द्वारा” सारस्वत सम्मान”                                                                                                                           *सृजन सम्मान रायपुर(छ.ग.)द्वारा” लघुकथा गौरव सम्मान”                                                                                                          *सुरभि साहित्य संस्कृति अकादमी खण्डवा द्वारा कमल सरोवर दुष्यंतकुमार साहित्य स.                                                                          *अखिल भारतीय बालसाहित्य संगोष्टी भीलवाडा(राज.) द्वारा”सृजन सम्मान”                                                                                     *बालप्रहरी अलमोडा(उत्तरांचल)द्वारा सृजन श्री सम्मान                                                                                                                        *साहित्यिक-सांस्कृतिक कला संगम अकादमी परियावां(प्रतापगघ्ह)द्वारा “विद्धावचस्पति स.                                                                 *साहित्य मंडल श्रीनाथद्वारा(राज.)द्वारा “हिन्दी भाषा भूषण”सम्मान                                                                                                  *राष्ट्रभाषा प्रचार समिति वर्धा(महाराष्ट्र)द्वारा”विशिष्ठ हिन्दी सेवी सम्मान                                                                                           *शिव संकल्प साहित्य परिषद नर्मदापुरम होशंगाबाद द्वारा”कथा श्री”सम्मान                                                                                        *तृतीय अंतराष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन बैंकाक(थाईलैण्ड) में “सृजन सम्मान.                                                                                       *पूर्वोत्तर हिन्दी अकादमी शिलांग(मेघाअलय) द्वारा”डा.महाराज जैन कृष्ण स्मृति सम्मान.                                   विशेष उपलब्धियाँ:-औद्धोगिक नीति और संवर्धन विभाग के सरकारी कामकाज में हिन्दी के प्रगामी प्रयोग से  संबंधित विषयों तथा गृह मंत्रालय,राजभाषा विभाग द्वारा निर्धारित नीति में सलाह देने के                                        लिए वाणिज्य और उद्धोग मंत्रालय,उद्धोग भवन नयी दिल्ली में “सदस्य” नामांकित

(2)केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय( मानव संसाधन विकास मंत्रालय) नयी दिल्ली द्वारा_कहानी                                 संग्रह”महुआ के वृक्ष” तथा “तीस बरस घाटी” की खरीद की गई.

संप्रति:     सेवानिवृत पोस्टमास्टर(एच.एस.जी.1* संयोजक राष्ट्र भाषा प्रचार समिति जिला इकाई छिं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>