जेट एयरवेज ने एम्स्टर्डम को यूरोप का प्रवेश द्वार बनाया

नीदरलैंडस में रह रहे भारतीय और अन्य देश के लोगों के लिए शुभ समाचार है। जिस प्रकार अम्स्टेल गंगा के माध्यम से हमने भारत और नीदरलैंड को जोड़ने का प्रयास किया है उसी प्रकार भारतीय हवाई यात्रा कंपनी जेट एयरवेज ने नयी दिल्ली और मुंबई को एम्स्टर्डम से जोड़ने का सुनहरा कार्य किया है। भारतीय संस्कृति में गंगा नदी का बहुत महत्व है। गंगा जिन पवित्र स्थलों होकर महासागर में विलीन होती है वो विश्व प्रसिद्ध पर्यटक केंद्र हैं। उनमें से सबसे प्रसिद्ध स्थल है वाराणसी, भगवान शिव की नगरी। वाराणसी में आ कर गंगा और शिव जी के दर्शन के लिए साल भर विदेशी सैलानियों का ताता लगा रहता है। जेट एयरवेज की इस पहल से एम्स्टर्डम से दिल्ली और मुंबई ही नहीं वाराणसी भी यूरोप के और निकट हो जायेगा।

जेट एयरवेज के इस उद्घाटन समारोह में नीदरलैंडस में भारत के राजदूत श्री जे. एस. मुकुल भी शामिल थे।

जेट एयरवेज २७ मार्च २०१६ से प्रतिदिन दिल्ली और मुंबई से एम्स्टर्डम और वापसी की विमान सेवा शुरू की है। इतना ही नहीं जेट एयरवेज ने एम्स्टर्डम और टोरंटो के बीच भी दैनिक विमान सेवा शुरू कर दी है। साथ ही साथ, जेट एयरवेज ने के एल एम रॉयल डच एयरलाइंस और डेल्टा एयर लाइन्स के साथ नई सामरिक भागीदारी की है, जो की उत्तरी अमेरिका और यूरोप भर में ७० से अधिक गंतव्यों के लिए एम्सटर्डम से कोड शेयर सुविधा मुहैया कराएगी।

सेवा की मुख्य विशेषताएं :

- एम्सटर्डम के माध्यम से यूरोप और उत्तरी अमेरिका भर में और अधिक स्थलों पर निर्बाध संपर्क

- प्रीमियर में ३४ सीटें और इकॉनमी में २५९ सीटों के साथ आधुनिक एयरबस ए३३० -३०० विमान

- के एल एम कोड शेयर द्वारा संचालित पूरे नेटवर्क पर जे पी माइल्स कमाने और इस्तेमाल करने की सुविधा
** सरकार की मंजूरी के अधीन रहते हुए , जेट एयरवेज संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में ११ स्थलों और यूरोप भर में ३० स्थलों पर कोड शेयर को लागू करेगा।

एम्सटर्डम से जेट एयरवेज की उड़ानों की अनुसूची के लिए कृपया उनकी वेबसाइट को देखें।
- अमित सिंह
अम्स्टेल गंगा समाचार ब्यूरो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>