चाँद-सा माथा तुम्हारा

 

तुम्हारा चाँद-सा माथा

जो दो पल छू लिया मैंने ।

कहें क्या बात जनमों की

पूरा युग जी लिया मैंने ॥

करें अभिशाप का वंदन

मिलते वरदान फिर कैसे ।

जब पूजा से दुआ गायब

मिटे शैतान फिर कैसे ॥

बनारस जा नहीं पाया

संगम नहा नहीं न पाया ।

घर के द्वार पर ही आज

वह प्रियतम पा लिया मैंने ॥

पूजा उपवास ना जाना

नाम का दान कब पाया ।

न ओढ़ी रामनामी ही

न घंटा- घड़ियाल बजाया ॥

कभी तप करना न आया

मुझे जप करना कब भाया ।

जब चिड़िया भोर में चहकी

कुछ गुनगुना लिया मैंने ॥

नरक का द्वार मिल जाए

स्वर्ग का सार छिन जाए ।

मुझे दोनों बराबर हैं,

रात आए या दिन जाए ॥

सबकी हर पीर मैं हर लूँ

उजाले प्राण में भर लूँ ।

थे जब गीले नयन पोंछे

सभी कुछ पा लिया मैंने ।।

 

 

- रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

 

जन्म: 19 मार्च

शिक्षा : एम ए-हिन्दी (मेरठ विश्वविद्यालय से प्रथम श्रेणी में) , बी0 एड्0 ।

प्रकाशित रचनाएँ :‘माटी,पानी और हवा’,’अंजुरी भर आसीस’,’कुकडूँ कूँ’,’हुआ सवेरा’)(कविता संग्रह),मेरे सात जनम (हाइकु -संग्रह), मिले किनारे (ताँका और चोका संग्रह संयुक्त रूप से डॉ हरदीप सन्धु के साथ), झरे हरसिंगार(ताँका-संग्रह)’धरती के आँसू’,’दीपा’,’दूसरा सवेरा’ (लघु उपन्यास),’असभ्य नगर’(लघुकथा संग्रह),खूँटी पर टँगी आत्मा( व्यंग्य –संग्रह),भाषा-चन्दिका (व्याकरण ) ,रूम टू रीड इण्डिया से  मुनिया और फुलिया (बालकथा हिन्दी और अंग्रेज़ी), झरना ,सोनमछरिया, कुआँ(पोस्टर कविता छोटे बच्चों के लिए ) , रोचक बाल कथाएँ प्रकाशित  ,अनेक संकलनों में लघुकथाएँ संकलित तथा गुजराती,पंजाबी,उर्दू ,अंग्रेज़ी एवं नेपाली में अनूदित। देश -विदेश की विभिन्न -पत्र-पत्रिकाओं में विगत 43 वर्षों से रचनाएँ प्रकाशित ।लोकल कवि का चक्कर (आकाशवाणी  जबलपुर से  नाटक का प्रसारण ) । मुनिया और फुलिया (बालकथा – अंग्रेज़ी) इटली के बाल पुस्तक मेले के लिए भारत  से दो बार चयनित ।

सम्पादन:आयोजन(बरेली लघुकथा सम्मेलन 1989),नैतिक कथाएँ(पाँच भाग), भाषा-मंजरी (आठ भाग),चन्दनमन (18 रचनाकारों का प्रतिनिधि हाइकु संकलन),गीत सरिता(बालगीत-3भाग),बालमनोवैज्ञानिक लघुकथाएँ ,मानव मूल्यों की लघुकथाएँ एवं लघुकथाएँ-मेरी पसन्द  (श्री सुकेश साहनी के  साथ), ‘एक दुनिया इनकी भी ( बालकथा-संग्रह 2 भाग), भावकलश(29 कवियों का  ताँका -संग्रह-डॉ भावना कुँअर के साथ) , यादों के पाखी ,(हाइकु-संग्रह), अलसाई चाँदनी ( सेदोका -संग्रह)का प्रकाशन ।

www.laghukatha.com ( 40 देशों में देखी जाने वाली लघुकथा की एकमात्र वेब साइट), http://patang-ki-udan.blogspot.com/ (बच्चों के लिए ब्लॉगर), 88 देशों में प्रसारित  हिन्दी हाइकु (आस्त्ट्रेलिया)wwwhindihaiku.net के तथा त्रिवेणी  http://trivenni.blogspot.com ( हिन्दी का तांका ,हाइगा और चोका-जापानी छन्द का एक मात्र ब्लॉग) के डॉ हरदीप कौर सन्धु के साथ सहयोगी सम्पादक;हिन्दी चेतना (हिन्दी प्रचारिणी सभा कनाडा की  विश्व भर में प्रसारित त्रैमासिक) के सह -सम्पादक ।

वेब साइट पर प्रकाशन:रचनाकार ,अनुभूति, अभिव्यक्ति,हिन्दी नेस्ट,साहित्य -कुंज ,लेखनी,इन्द्र- धनुष ,उदन्ती ,कर्मभूमि, हिन्दी गौरव ,गर्भनाल आदि ।

प्रसारण –आकाशवाणी गुवाहाटी ,रामपुर, नज़ीबाबाद ,अम्बिकापुर एवं जबलपुर से ।

निर्देशन: केन्द्रीय विद्यालय संगठन में हिन्दी कार्यशालाओं में विभिन्न स्तरों पर संसाधक(छह बार) ,निदेशक (छह बार) एवं  केन्द्रीय विद्यालय संगठन के ओरियण्टेशन के फ़ैकल्टी मेम्बर के रूप में कार्य; एन बी टी द्वारा सर्जनात्मक लेखन की कार्यशाला (चण्डीगढ़), पठन अभिरुचि के प्रोत्साहन हेतु कार्यशाला ( ऊना हिमाचल) , बी एड शिक्षकों के लिए  शिक्षण की परिचर्चा ( गिरडीह)के लिए संसाधक रूप में प्रतिनियुक्त ।

सेवा :  7 वर्षों तक उत्तरप्रदेश के विद्यालयों तथा 32 वर्षों तक केन्द्रीय विद्यालय संगठन में कार्य ।  केन्द्रीय विद्यालय के प्राचार्य पद ( 19 फ़रवरी1994- 31 अगस्त 2008) से सेवा निवृत्ति।

सम्प्रति: स्वतन्त्र लेखन ।

सम्पर्क:-  नई दिल्ली-110085

 

3 thoughts on “चाँद-सा माथा तुम्हारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>