गीत – सुधेश

कैसी कोरी धूप खिली
कैसी सुबक कली खिली
जीवन में और क्या चाहिये ।

ऊपर  गगन चादर तनी
नीचे घास का पिछौना
मदिर मदिर पवन बहा
फूल झूलता  सलोना ।
जीवन की बाटिका में
मधु   रंगों के मेले में
मन को और क्या चाहिये ।

नये   मन प्राण मिले
धरती आसमान मिले
इतनी बडी दुनिया में
जीने के सौ सामान मिले ।
सिन्धु में इक बूँद जैसी
नन्हीं सी जान को
जीवन में और क्या चाहिये ।

दिन में तो दौड़ धूप
जाना पड़ेगा काम को
सारे दिन मशीन बने
थक लौटना है शाम को ।
रात को लो मीठी नींद
सपने रंगीन देखो
जीवन में और क्या चाहिये ।

 

- सुधेश

- दिल्ली में सन १९७५ से । अत: दिल्ली वासी ।

- जन्मतिथि ६जून 

- जन्म स्थान जगाधरी ज़िला अम्बाला (हरियाणा ) 

पुस्तकें -
काव्य कृतियाँ :
१ फिर सुबह होगी ही ( राज पब्लिशिंग हाउस ,पुराना सीलमपुर ,दिल्ली ) १९८३ 
२ घटनाहीनता के विरुद्ध ( साहित्य संगम , विद्याविहार , पीतमपुरा ,दिल्ली ) १९८८ , 
३ तेज़ धूप ( साहित्य संगम , दिल्ली ) सन १९९३ 
४ जिये गये शब्द ( अनुभव प्रकाशन , साहिबाबाद़ ,ग़ाज़ियाबाद ) सन १९९९ 
५ गीतायन ( गीत और ग़ज़लें ) कवि सभा,विश्वास नगर , शाहदरा ,दिल्ली – २००१
६ बरगद ( खण्डकाव्य ) प्रखर प्रकाशन जनवीनशाहदरा ,दिल्ली – २००१ 
७ निर्वासन ( खण्ड काव्य ) साहित्य संगम , पीतमपुरा , दिल्ली – सन २००५ 
८जलती शाम (काव्यसंग़ह) अनुभव प़काशन , साहिबाबाद़, ग़ाज़ियाबाद-२००७ 
९ सप्तपदी , खण्ड ७(दोहा संग़ह ) ंअयन प्रकाशन , महरौली ,दिल्ली सन २००७ 
१०हादसों के समुन्दर ( ग़ज़लसंग़ह ) पराग बुक्स , ग़ाज़ियाबाद – सन २०१० 
११ तपती चाँदनी ( काव्यसंग़ह ) अनुभव प्रकाशन , साहिबाबाद़ – २०१३

आलोचनात्मक पुस्तकें:

१ आधुनिक हिन्दी और उर्दू कविता की प़वृत्तियां ,राज पब्लिशिंग हाउस ,पुराना 
सीलम पुर दिल्ली सन १९७४ 
२ साहित्य के विविध आयाम -शारदा प़काशन ,दिल्ली १९८३ 
३ कविता का सृजन और मूल्याँकन – साहित्य संगम, पीतमपुरा ,दिल्ली १९९३
४ साहित्य चिन्तन – साहित्य संगम , दिल्ली १९९५ 
५ सहज कविता ,स्वरूप और सम्भावनाएँ – साहित्य संग़म ,दिल्ली १९९६ 
६ भाषा ,साहित्य और संस्कृति – स्रार्थक प़काशन ,दिल्ली २००३
७ राष़्ट्रीय एकता के सोपान – इण्डियन पब्लिशर्स,क़मला नगर ,दिल्ली २००४ 
८ सहज कविता की भूमिका – अनुभव प़काशन ,ग़ाज़ियाबाद २००८
९ चिन्तन अनुचिन्तन – यश पब्लिकेंशन्स, दिल्ली २०१२ 
१० हिन्दी की दशा और दिशा -जनवाणी प़काशन , दिल्ली २०१३

विविध प़काशन:

तीन यात्रा वृत्तान्त ,दो संस्मरण संग़ह,एक उपन्यास,एक व्यंग्यसंग़ह ,
एक आत्मकथा प़काशित । कुल २९ पुस्तकें प़काशित ।

प़ाप्त पुरस्कार , सम्मान :

मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी का भारतीय कविता पुरस्कार २००६
भारत सरकार के सूचना प़सारण मंत्रालय का भारतेन्दु हरिश्चन्द़ पुरस्कार २०००
लखनऊ के राष्ट़़धर्म प़काशन का राष्ट़़धर्म गौरव सम्मान २००४
आगरा की नागरी प़चारिणी सभा द्वारा सार्वजनिक अभिनन्दन २००४

जीवनी - बचपन जगाधरी ,देवबन्द में बीता ।शिक्षा देवबन्द, मुज़फ़्फ़रनगर , देहरादून 

में पाई । एम ए हिन्दी में ( नागपुर वि वि ) पीएच डी आगरा विवि से । उ प़ के तीन 
कॉलेजों में अध्यापन के बाद दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू वि वि में २३ वर्षों तक
अध्यापन । प़ोफेसर पद से सेवानिवृत्त । तीन बार विदेंश यात्राएँ । अब स्वतन्त्र लेखन ।

सम्पर्क का पता - द्वारिका , सैक्टर १०, दिल्ली ११००७५ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>