इंजीनियर साहिब

 

सॉफ्टवेयर इंजीनियर चिरौंजी लाल, बचपन का नाम चुनमुन
जब से इंजीनियर बना है, रहता है गुमसुम गुमसुम
बचपन मे सुना था, इंजीनियर के जलवे होते हैं
पैसों पे सोते हैं, कई गाड़ी कई बंगले होते हैं
एक बार इंजीनियर बन गए, तो लाइफ बन जाती है
इतना पैसा मिलता है, आने वाली पीढ़ी बैठे बैठे खाती है
लोग इंजीनियर साहिब कहकर बुलाते हैं
इंजीनियर गोल्फ खेलते हैं टेनिस क्लब जाते हैं

कहते हैं कि सपने टूटने पे आवाज नहीं आती है
कभी हो जाये गलतफहमी तो जाते जाते जाती है

रिसेशन, ऐसा कुछ तो बताया नहीं था,
किसी ने बचपन मे
ज़ीरो हाइक, ये शब्द तो कभी सुना ही,
नहीं था बचपन मे
फायरिंग, अरे ये तो सीमा पे होती थी,
इसका तो इंजीनियरिंग से कोई,
वास्ता नहीं था बचपन मे
वर्क प्रेशर, लेकिन इंजीनियर साहिब तो
गोल्फ खेलने जाते थे
नाइट आउट, वाट लगना, टीम डिजोल्व
काश कोई बता देता बचपन मे
सच है, चुनमुन बिट्टू पिंकू टीनू सब
बड़े भोले थे बचपन मे

पहली पेमेंट से ली गयी ली की जीन्स
और रीबॉक के जूते अब फटने लगे हैं
बचपन मे देखे ख्वाब,
इंजीनियरिंग करके बिखरने लगे हैं

नजर घुमाता हूँ, तो कई चिरौंजी लाल नजर आते हैं
लैपटाप बेताल की तरह हमेशा पीठ पर लद जाता है
घर मे लैपटाप आफिस मे लैपटाप
छुट्टियों मे भी लैपटाप, चुनमुन संघ घूमने जाता है

पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब
खेलोगे कूदोगे तो बनोगे खराब
सुन पढ़ने मे बड़ा मजा आता था
खेलने वाले आई पी एल मे करोड़ों कमा रहे हैं
गाने बजाने वाले इंडियन आइडल जा रहे हैं
और इंजीनियर साहिब, बेताल को सैर करा रहे हैं

-नीरज त्रिपाठी

 

शिक्षा- एम. सी. ए.

कार्यक्षेत्र – हिंदी और अंग्रेजी में स्कूली दिनों से लिखते रहे हैं | साथ ही परिवार और दोस्तों के जमघट में   कवितायेँ पढ़ते रहे हैं |

खाली समय में कवितायेँ लिखना व अध्यात्मिक पुस्तके पढ़ना प्रिय है |

प्रतिदिन प्राणायाम का अभ्यास करते हैं और जीवन का एकमात्र लक्ष्य खुश रहना और लोगों में खुशियाँ फैलाना है |

कार्यस्थल – माइक्रोसॉफ्ट, हैदराबाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>