आँगन की चिड़िया

 

‘चाची…।’ पड़ोस वाली नन्हीं पिंकी आवाज़ दे रही थी।

राशि ने खिड़की से झाँका। पिंकी आँगन में खड़ी थी। उसके आसपास ज़मीन पर चावल बिखरे थे। राशि को खिड़की पर देखकर पिंकी दौड़ती हुई आई और बोली, ‘चाची, चावल दो ना, मुझे चिया को किलाना है, माँ चावल नहीं दे रही।’ राशि ने मुस्कुराते हुए कहा, ‘वो देखो, ज़मीन पर कितने सारे चावल बिखरे हैं, पहले चिया को इतने चावल तो खिला दो।’ पिंकी बोली, ‘खा लेगी चिया, सब खा लेगी। अभी देखना, जैसे ही आँगन खाली होगा, चिया चावल चुगने यहाँ आ जाएगी। उसे और चावल दो ना चाची।’

राशि खिड़की से हटी और रसोई से चावल लाकर पिंकी को दे दिए। पिंकी फिर मगन हो गई और राशि का ध्यान भी उधर ही लग गया। दो-चार चिड़ियाँ पिंकी से थोड़ा दूर रहकर चावल चुगतीं और पिंकी के पास आते ही फुर्र से उड़ जातीं। पिंकी उन्हें बुलाने लगती। ‘आ चिया, आ..’।

राशि सोचने लगी; ‘ऐसे ही तो वो भी बुलाती थी’। रोज़ सुबह होते ही वो आंगन में पहुंच जाती। और जिस दिन वो नहीं पहुंचती, दादाजी की आवाज़ लग जाती ‘राशि, चिड़ियों को दाना नहीं खिलाएगी?’ अक्सर दादी कहती, ‘क्या रोज़ सुबह राशि को खेल में लगा देते हो, अरे अब उसे पढ़ने बैठाया करो। स्कूल में नाम लिखाना है। ये खेल उसकी ज़िन्दगी नहीं बनाएगा।’ दादाजी कहते, ‘स्कूल जाने लगेगी तो पढ़ लेगी, अभी तो खेलने दो हमारे आँगन की चिड़िया को।’

राशि, दादाजी की याद कर, खिड़की से हट आई और अनमनी सी बैठ गई। कुछ करने को ही नहीं है। लंच वो तैयार कर चुकी है। कपड़े धुल कर सूख रहे हैं। बच्चों के स्कूल से आने में देर है।

पिंकी को चिया के साथ देखकर राशि की बचपन की यादें ताज़ा हो गई हैं।

दादाजी और दादी का दुलार याद आ रहा है। पिताजी का प्यार याद आ रहा है, पर सबसे ज्य़ादा उसे माँ याद आ रही है।

बार-बार उसकी आँखें माँ को याद कर भर जाती हैं। ‘कल माँ से बात की थी, तब पता लगा था कि वो तीन दिन से बुखार में पड़ी थीं।’ राशि बेचैन हो गई। उसे यकीन नहीं हो रहा था कि माँ डॉक्टर से दवा ले रहीं होंगी, पर माँ उसे तसल्ली देती रही कि अब तो उसका बुखार उतर भी गया है।

राशि क्या करे। कैसे समझाए खुद को। वो इतनी दूर है कि चाहकर भी माँ को देखनेनहीं पहुंच सकती।

अभी कुछ दिन पहले ही तो वो माँ से मिलकर आई है। पर ऐसे नहीं चलेगा। अगर वो नहीं जा सकती, तो माँ की बात पर ही यकीन करना होगा। उसे किसी तरह अपना मन इन बातों से हटाना होगा।

उसने खुद को संयत किया ‘चलो, वो अपनी अलमारी ठीक कर लेगी। इस बार मायके से लौटकर उसने सूटकेस खाली किया और अलमारी में भर दिया। तब से डेढ़ हफ्ते हो गये, आज सारा सामान तरतीब से रख देगी।’

अलमारी खोलते ही उसे सामने नज़र आई माँ की दी हुई साड़ी। राच्चि ने बड़े प्यार से उस पर हाथ फेरा। ‘माँ ने अपने हाथ से काढ़ी थी। इस बार चलते वक़्त माँ जल्दी से उसके हाथों में ये साड़ी थमा गई थीं।’ उसने साड़ी निकालकर कंधे पर डाल कर देखा। उसे लगा, माँ ने उसके कंधे पर हाथ रखा है।

राशि ने कंधे से साड़ी उतारकर उसे अच्छी तरह संभालकर हंगर पर टांग दिया। दो चार कपडे ठीक किये, तभी राशि का हाथ उस अलबम पर पड़ा, जो वो इस बार माँ से मांग लाई थी। उसने अलबम खोला, तो उसका बचपन सामने आ गया।

कितनी सारी तस्वीरें हैं बचपन की। कहीं वो दादाजी और दादीजी के साथ है, तो कहीं माँ-पिताजी के साथ।

‘ये उसकी सालगिरह की तस्वीरे हैं।’ सुन्दर फ्रॉक में नन्ही राशि मुस्कुरा रही थी। ‘ये फ्रॉक माँ ने बनाई थी।’ राशि ने ठान लिया था कि इस बार सालगिरह में वो झालर वाली घेरदार फ्रॉक ही पहनेगी। बाज़ार के कई चक्कर लगे, पर राशि की पसंद की फ्रॉक कहीं नहीं मिली। तब माँ ने रात भर जागकर ये फ्रॉक बनाई थी, जिसे देखकर राशि माँ से लिपट गई थी ‘यही फ्रॉक चाहिए थी मुझे।’

‘माँ कैसे समझ जाती थी उसके मन की बात, बचपन में’। ‘पर आज, वही माँ समझते हुए भी राशि के मन से अनजान बनकर जी रही है’। राशि ने फिर गहरी सांस ली। उसकी नज़रें अभी भी सालगिरह वाले फोटो पर टिकी थीं। वो देख रही है माँ का उजला चेहरा…’कितनी चमक है माँ के चेहरे पर।’ जब तक पिताजी थे, माँ का चेहरा ऐसे ही चमकता था। बाद की तस्वीरों में दादाजी और दादीजी नहीं हैं। यहाँ माँ-पिताजी के साथ वो, भाई का हाथ थामे खड़ी है।

उसका छोटा भाई; जो माँ की गोद के लिए मचल रहा था, पर फोटोग्राफर के कहने पर उसे राशि के साथ खड़ा होना पड़ा। तभी तो तस्वीर में उसके नन्हें से चेहरे पर गुस्सा झलक रहा है। ‘आज यही भाई कितना बड़ा दिखने लगा है। चेहरा भी बदल गया है।’

राशि गहरी सांस लेकर अलबम पलटने लगी। ‘ये तस्वीर तो पिताजी के बाद की है।’ वो और माँ साथ बैठे हैं। भाई पीछे खड़ा है। भाई का एक हाथ उसके कंधे पर है और एक माँ के कंधे पर। माँ का चेहरा उतरा हुआ है, पर उसकी आँखों में कितना विश्वास झलक रहा है।

भाई को देख राशि और माँ दोनों के चेहरे खिल जाते थे। राशि को तो अपना भाई दुनिया से निराला लगता। माँ के साथ वो भी यही कोशिश करती कि भाई को सबसे अच्छी चीज़ मिले। सबसे अच्छा कपड़ा पहने और उसे घर का सबसे अच्छा बिस्तर मिले। वो भाई के साथ साये की तरह लगी रहती। उसकी ग़लतियाँ अपने सर ले लेती। माँ की डांट से उसे बचा लेती। उसे लगता, भाई जब बड़ा हो जाएगा, तो खुद ही समझ जाएगा। फिर घर, उसी तरह मुस्कुराएगा जैसे पिताजी के समय मुस्कुराता था।

राशि की आँखे गीली हो आईं। ‘जो सोचो, वो कहाँ होता है।’

ये तस्वीर रक्षाबंधन की है। ‘कितनी ख़ुशी झलक रही है राशि के चेहरे पर, और भाई कैसे मुस्कुरा रहा है।’ अब तो रक्षाबंधन आता है, तो वो कल्पना में ही भाई को राखी बंधवाते देख लेती है और अपना व्रत खोल लेती है। उसकामन ही नहीं होता रक्षाबंधन पर भाई के पास जाने का।

उसने सोचा, और अलबम बंद कर माँ को फोन मिलाने लगी। घंटी बजती रही। ‘शायद माँ सो गई होंगी।’ राशि ने फोन रख दिया। ‘आँख ही लग गई होगी माँ की। वो कितनी कमज़ोर हो गई हैं।’

राशि जब तक माँ के पास रही, उसे लगता रहा किसी तरह माँ को आराम मिले। जब वो रात में माँ के पैरो में तेल लगाने लगती, तो माँ मुस्कुराकर कहती ‘जाने दे राशि, इन बूढ़ी हड्डियों में तू चाहे तेल लगा या घी, इनका दर्द नहीं जाएगा।’

माँ अब कितना चुप भी रहने लगी हैं, और भाई कितना बोलने लगा है। कितनी शिकायते हैं भाई को। ‘अपने बचपन की, अपने घर की और माँ के व्यवहार की।’

भाई की उन शिकायतों में एक बार भी माँ के उस संबल की बात नहीं होती, जो कदम-कदम पर माँ उन्हें देती आई है।

राशि को याद है। यही भाई, कभी किसी चीज़ की इच्छा करता, तो माँ ‘कैसे ना कैसे’ उसे पूरा करती थीं। उसे पढ़ाने के लिए माँ ने अपनी जमा-पूँजी लगा दी। आज वही भाई माँ के सामने जब-तब पैसे का रोना रोता रहता है। यही भाई था, जिसे मोटर साइकिल दिलाने के लिए माँ ने अपनी चूड़ियाँ तक बेच दीं थीं। वही भाई आज माँ कीदवा लाना भूल जाता है। उसे शिकायत है कि माँ ने उसे ‘वो सब’ नहीं दिया, जो दूसरे बच्चों को मिलता है। ये च्चिकायत करते समय वो भूल जाता है कि पापा के बाद माँ ने अपनी खुच्चियों का तिल-तिल होम करते हुए, किस तरह उसके लिए खुच्चियां जुटाई हैं। कभी-कभी तो अपनी सामर्थ्य से बाहर जाकर भी माँ ने भाई की इच्छा पूरी की है, पर भाई को आज माँ की हर बात से च्चिकायत है।

भाई की शिकायतों पर भाभी की मुस्कान उससे देखी नहीं जाती, पर राशि अब चाहकर भी भाई को समझा नहीं पाती। उसे अपना भाई बिलकुल अजनबी लगता है और माँ बेहद निरीह लगती है।

राशि का मन, माँ का चेहरा देखकर भर आता है। इस बार उसने माँ से कहा, ‘तुम साथ चलो माँ।’ पर माँ ने मना कर दिया ‘ना राशि, बेटी के घर माँ अच्छी नहीं लगती।’ राशि के तमाम तर्क धरे रह गये, पर माँ साथ नहीं आईं।

कैसे आएंगी। वो तो आँगन की चिड़िया थी, जो अपना आँगन छोड़ उड़ चुकी है। अब तो उसे सिर्फ़ मेहमान बनकर आना है। चार दिन हंस खेलकर फिर वापिस लौट जाना है। लाख जुड़ा हो उसका मन, उस आँगन से; पर, वो बेटी है, पराये घर की है और भाई लाख शिकायतें करे, पर वो बेटा है, अपने घर का है। यही सच है।

- राजुल अशोक 

शैक्षिक योग्यता : एमए (अंग्रेजी और हिन्दी साहित्य), एलएलबी.
व्यावसायिक योग्यता : वर्ष 1994 में बी एल एस सी, वर्ष 1995 में बीएड

कौशल और काम करने का अनुभव : वी न्यूज रीडर, टीवी एंकर, स्टेज एंकर, स्टेज कलाकार, आरामदायक उद्घोषक आकाशवाणी (विविध भारती) , आर जे – आकाशवाणी एफएम रेनबो , टीवी और रेडियो कार्यक्रमों का तुल्यांकन , वो और डबिंग कलाकार, कमेंटेटर लाइव, मोडलिंग,

टी वी न्यूज रीडर और एंकरिंग : लखनऊ दूरदर्शन और टी वी समाचार पत्रिका अब तक , मंगल कामना और सात्विक आहार (आस्था टीवी चैनल)

स्टेज कलाकार और लेखक : नौटंकी (कॉमेडी शो आदि संगीत चैनल) , लेखन वृत्तचित्र और विशेष फ़ीचर (दूरदर्शन) , प्रियदर्शिनी इंदिरा गांधी , स्मृति शेष – गुलाब बाई , बुध्हम शरणं गच्व्हामी, मुक्ति धारा, आद्या नमामि , पालकी, महाकुंभ, इतराती धूप, नन्ही नहीं बुंदिया, ज्योति पर्व, स्नेह सूत्र, बेकार बेकार हाय धर्मस्य , विजय सत्य की राही धारा पर और कई और अधिक …..

मंच नाटकों और लेखन के दिशा : सिद्धार्थ का गृह त्याग, मायाजाल, इंद्रधनुष में भागीदारी, कहाँ खो गई निर्मल धारा, गंगा सागर, सात सुर सजे

अविष्कार : A Grand Saga Of Peace & Love(English Play) और कई और ……
1987 के बाद से विज्ञापन प्रोमो, और जिंगल्स लेखन

अनुवाद श्रृंखला : पर्व भारत, वन्य जीव, तिर ना खूंटी के रहस्यवादी नाइट ,डिगिमोन सेवर, डेरेक के साथ जीवन, क्लोन युद्ध, सुपर हीरो , स्पीड रेसर, वेव्ली प्लेस के जादूगर, शब्द विश्व, पोकेमोन जॉइस मेयर और कई डिस्कवरी चैनल, स्टार टीवी, यूटीवी, डिज्नी, पोगो, कार्टून नेटवर्क के लिए.

फिल्म्स : गोल्डन नेत्र, डाई अनदर डे, टर्मिनेटर साल्वेशन, जन्गेज खान, जुरासिक पार्क- 3, काताकोम्ब , आउटपोस्ट, हाइब्रिड, क्लोन वा, द स्वार्म, द किंग ऑफ़ लॉस्ट लार्ड, हेलोवीन, प्रॉब्लम चाइल्ड , विज़ार्ड ऑफ़ वेवर्ली प्लेस, इट्स अ बोयस गर्ल्स और कई और

वर्त्तमान में केयर वर्ल्ड टीवी चैनल के साथ कार्यरत
स्थान: मुंबई

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>