17 thoughts on “Holland’s First Hindi Magazine…

  1. प्रिय अम्स्टेल गंगा मंडली,

    आपकी यह शुरुआत सराहना योग्य है ।

    हम ये आशा करते हैं की नीदरलैंड और भारत की हिंदी का ये संगम सदा अच्छे साहित्य से भरा रहेगा ।

    धन्यवाद .

    ज्योति प्रसाद राउत

    नोइडा, ऊत्तर प्रदेश
    भारत ।

  2. प्रिय सम्पादक मंडल,

    नमस्ते,

    वातायन कविता संस्था, लन्दन, की ओर से बहुत बहुत बधाई, आशा है कि आपके प्रयास से नीदरलैंड-भारत की मैत्री सुद्रढ़ होगी।

    कृपया हमें अपनी मेलिंग लिस्ट में रखिए।

    धन्यवाद,

    दिव्या माथुर

  3. amlestal ganga ka chata ankpadhkar aesa laga mano veideshi dharti par sahitya ganga ki pavan dhara baha rahi ho . amlestal ganga congratulation

  4. प्रिय सम्पादक मंडल,

    नमस्ते,
    नीदरलैंड और भारत की हिंदी का संगम सदा अच्छे साहित्य से भरा रहेगा ।

    धन्यवाद,

    Naval Pal
    Bharat Se

  5. प्रिय सम्पादक मंडल,

    नमस्ते,
    नीदरलैंड और भारत की हिंदी का संगम सदा अच्छे साहित्य से लबालब रहे ऐसी हमारी शुभ कामना है ।

    धन्यवाद,

    Mahendra Tiwari
    भारत
    https://www.facebook.com/mahendrat001

  6. प्रिय सम्पादक मंडल,
    नीदरलैंड-भारत के बीच हिन्दी ने महत्वपूर्ण भूमिका निबाही है. हिन्दी की पत्रिकाओं ने सांस्कृतिक साझेदारी को दिशा और शक्ति प्रदान की है. इसके लिए मैं आप सबके प्रयासों की सराहना करता हूँ. आपके हर अंक पर मेरी निगाह है. उचित समय पर मैं अपनी रचना भी भेजने का प्रयास करूंगा. पुनः आप सबको बधाई!
    -रंजन ज़ैदी,
    (कथाकार, कवि और पत्रकार).
    +91 9350934635 गाज़ियाबाद ,(भारत)

  7. hindi ke sahitya rupy samudra ke khali pan ko bharne ka har pryas swagat yogya hai.most wellcom.sadhuvad.

  8. Amstelganga is the best example of “Continuous Improvement”.
    Dear Amit and other team members, I feel proud in congratulating you.
    Please keep up the good work.

    Regards
    Siddharth Sinha
    Assistant General Manager
    IDBI Bank Ltd.
    Mumbai

  9. हिंदी और भोजपुरी को विदेशों में सम्मान दिलवाने के आपलोगों के प्रयास को जितना सराहा जाय कम है /
    बधाई और शुभकामना /

  10. आपकी पत्रिका की सामग्री बहुत स्तरीय हे। भारत नीदरलैंड सहित विश्व के अन्य देशों में भी हिंदी की माता प्रतिपादित करने के साथ ही विश्व साहित्य की जानकारी भी उपलब्ध होती है।आपके इस प्रयास को हमारा पूर्ण समर्थन हे। बधाई
    रचनाएं पोस्ट करने की इ मेल आई दी दीजियेगा।
    #राजकुमार जैन राजन
    प्रबन्ध संपादक:साहित्य समीर दस्तक
    चित्रा प्रकाशन
    आकोला-312205(चित्तोड़गढ़)राजस्थान
    मोबाईल- 098282 19919

  11. होलेन्ड से छपने वाली यह पत्रिका होलेन्ड में भी हिंदी की गंगा प्रवाहित करे इसी आशा और विश्वास के साथ संपादक मंडल को बधाई और शुभकामनाएं |

  12. ईश्वर आपको नए साल में स्वस्थ और सुखी रखे – यही प्रार्थना है।
    स्नेहाकांक्षी – सुभाष चंद्र लखेड़ा

  13. अम्स्टेल गंगा का अन्य अंकों की भांति यह अंक भी साहित्यिक दृष्टि से अतुलनीय | सम्पादक महोदय एवं समस्त सम्पादक मंडल को हार्दिक साधुवाद

Leave a Reply to विष्णुप्रसाद चतुर्वेदी Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>