संपादकीय

मानव एक बुद्धिजीवी प्राणी है| इसी से उनकी दृष्टि में अणु ने परमाणु तक सब का अपना महत्व है | यही कारण है कि भारतीय दृष्टिकोण कभी एकांगी  नहीं रहा है तथा प्रत्येक विचार और पक्ष को इस जीवन में समान महत्व दिया गया है |

अम्स्टेल गंगा परिवार ने अक्टूबर अंक को विश्व की उन उन्हीं महान आत्माओं को समर्पित किया है | जिनका रिश्ता भारत से है फिर वे भारत में जन्मे हो या कहीं और  यद्यपि अक्टूबर में एनी बेसेंट, महात्मा गांधी, सर सैयद अहमद खान, वर्तमान में डॉ कमल किशोर गोयंका जैसे प्रतिष्ठित शिक्षाविदों, राजनीतिज्ञों, समाज सुधारकों ने जन्म लिया है | जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में समाज के लिए उत्कृष्ट कार्य  किया है | ये वे व्यक्तित्त्व हैं जिन्होंने धर्म, जाति, मजहब से ऊपर उठकर समाज के उत्थान के लिए पुनीत कार्य किये, जिससे आज भी समाज को संजीवनी शक्ति अर्जित हो रही है |

 श्रीमती एनी बेसेंट का जन्म 1 अक्टूबर 1847 में लंदन में हुआ| उन्हें भारत की संस्कृतिक, आध्यात्मिकता से गहरा  के शहर से लगाव हुआ तो उन्होंने लंदन जैसे शहर को छोड़कर भारत को अपना कर्म क्षेत्र बना लिया तथा सामाजिक कार्यों में जुट गयीं थी | वे काशी में,अपने स्कूल के लिए बैलगाड़ी लेकर निकलती थी सम्भ्रांत घराने की कन्याओ को शिक्षालय तक लाने लिए काशी में प्रो. पुष्पिता अवस्थी की शिक्षा-दीक्षा  उन्हीं की पढाई हुई शिक्षिकाओ से सम्पन्न हुई  है|  एनी बेसेंट अग्रणी आध्यात्मिक थियोसॉफिस्ट महिला अधिकारों की समर्थक, लेखक, वक्ता एवं भारत प्रेमी महिला थीं | सन 1947 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्षा भी बनीं |

काशी हिंदू विश्वविद्यालय का निर्माण भी थियोसॉफिकल सोसाइटी के अंतर्गत महामना मदनमोहन मालवीय जी के साथ मिलकर एनी बेसेंट ने ही करवाया जो आधुनिक शिक्षा के साथ-साथ भारतीय संस्कृति के संस्कार का संस्थान है | जहां पर आज भी भारतीय रीति-रिवाज के साथ शिक्षा का उत्थान पूरे ब्रह्मांड में फैल रहा है | यह आवासीय विश्वविद्यालय आज पूरी दुनियां में उत्कृष्ट स्थान रखता है जिसने देश-विदेश को अनेक मानवतावादी व्यक्तित्त्व दिए हैं |

मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1870 में गुजरात के पोरबंदर शहर में हुआ था | महात्मा गांधी ने भारत के स्वाधीनता संग्राम में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया जिनके कारण ही भारत को आजादी मिली और आज हम स्वतंत्र हैं | महात्मा गांधी ने अनेक आंदोलन अंग्रेजो के खिलाफ चलाए जिससे अंग्रेजों को आखिर में भारत को छोड़कर जाना पड़ा | भारत में महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता के नाम से जाना जाता है | भारतीय उनको बापू नाम से भी पुकारते हैं |

सर सैयद अहमद खान का जन्म 17 अक्टूबर 1817 को दिल्ली में हुआ था | यह एक शिक्षाविद हिंदुस्तानी शिक्षक और सामाजिक नेता थे | अंग्रेजी शासन में न्यायाधीश भी रहे | सर सैयद अहमद खान ने शिक्षा की अलख जगाने के लिए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना की, जिससे आज भारत में शिक्षा का प्रसार प्रचार हो रहा है | काशी हिंदू विश्वविद्यालय के बाद दूसरा सबसे बड़ा आवासीय विश्वविद्यालय अलीगढ़ मुस्लिम विश्विद्यालय है | सर सैयद का एक महत्वपूर्ण  कथन है कि “हिंदू मुस्लिम इस देश की दो आंखें हैं जो एक सुंदर बहू की तरह है अगर एक आंख भेंगी हो जाएगी तो वह  सुंदर नहीं लगेगी” इसी कारण उन्होंने हिंदू मुस्लिम एकता पर बल दिया | अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से सर्वप्रथम ग्रैजुएट ईश्वरी प्रसाद थे | देश में इस संस्थान की पहचान एक धर्मनिरपेक्ष विश्विद्यालय के रूप में प्रसिद्ध है | जो आज भी पूरी दुनिया को शिक्षा, संस्कृति और संस्कारों का लोहा मनवा रही है |

कमल किशोर गोयनका का जन्म 11 अक्टूबर 1938 में बुलंदशहर उत्तर प्रदेश में हुआ | दिल्ली के जाकिर हुसैन कॉलेज से अवकाश प्राप्त गोयनका प्रेमचंद साहित्य के अधिकारी विद्वान एवं प्रामाणिक शोधकर्ता माने जाते हैं | मुंशी प्रेमचंद पर उनकी कई पुस्तकें और लेख प्रकाशित हो चुके हैं | साहित्य अकादमी द्वारा प्रकाशित प्रेमचंद ग्रंथावली के संकलन एवं संपादन में उनका विशेष योगदान है | प्रवासी हिंदी साहित्य के संकलन, अध्ययन एवं विश्लेषण करने में भी उनकी अहम भूमिका स्वीकार की जाती है | वर्तमान में वे केंद्रीय हिंदी संस्थान के उपाध्यक्ष है ऐसे  गंभीर अध्येता के हम लंबे जीवन की कामना करते हैं | जिससे साहित्य को कुछ और नयी शक्ति मिल सके |

 

हम आशा करते हैं कि इस अंक में चयनित लेख, कविता, कहानियाँ, और चित्रकारी आप सभी को सृजन के आनंद से पूर्ण कर आत्मीय सुख प्रदान करेगी। आपसे अनुरोध है कि, हमें अपनी प्रतिक्रिया से अवगत अवश्य कराएं।
धन्यवाद।
- अमित कुमार सिंह , अखिलेश कुमार एवं डॉ पुष्पिता अवस्थी

Recent Posts