पत्र

पत्र

पत्र , पत्रिका और पाठकों के बीच संवाद का माध्यम हैं।

आपके पत्र हमारा मनोबल बढ़ाते है। हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं।

आपके अपने खट्टे मीठे पत्रों की इस दुनिया में आपका स्वागत है…
*********************************************************************************************************

प्रिय भाई अमित कुमार जी नमस्ते |
नव वर्ष की अनेकों शुभकामनाएं |जनवरी २०१८ की पत्रिका की सूचना के लिए धन्यवाद | डॉ ज्ञान प्रकाश जी की लघुकथा पढ़ी  अच्छी लगी उन्हें हमारी ओर से बधाई दीजिएगा |
धन्यवाद
सादर
सविता अग्रवाल “सवि “(केनेडा )
*********************************************************************************************************
नमस्ते सर,
आप का धन्यवाद की आप हिंदी को विश्व फलक पर पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं. पत्रिका सराहनीय है. नियमित पढ़ती हूं.
धन्यवाद .
कल्पना
*********************************************************************************************************
आप हिंदी के बहुत अच्छा कार्य कर रहे हो।
कामराज सिंधु
*********************************************************************************************************
स्मृति-आँगन में उसका किलकना ::
दिल को छू लेने वाली रचना।
डॉ ज्योत्स्ना श्रीवास्तव
*********************************************************************************************************
फाइल ::
अतिउत्तम। समय की व्यस्तता में परिवार के लोग बहुत जगह हमारे लिये जीते हैं और हम समझ नहीं पाते हैं।
जितेंद्र कुमार
*********************************************************************************************************
फाइल ::
बहुत बढ़िया लिखा है आपने।  इसी तरह लिखते रहें।
डॉ संतोष सिंह
*********************************************************************************************************
फाइल ::
बहुत सुन्दर , बधाई ।
अभय कुमार
*********************************************************************************************************
प्रिय अम्स्टेल गंगा मंडली,
को भारत से प्रणाम
किसी मित्र के माध्यम से आप की वेब पत्रिका के बारे में पता चला ,
जिसे तुरंत खोलकर देखा ,सच बहुत अच्छा लगा । अभी तो पूरा पढ़ नहीं पाया
हूँ,फिर भी एक नज़र में मुझे भा गई आप की पत्रिका ।
सात समंदर पर बैठकर आप लोग जो हिन्दी की सेवा कर रहे हें उसके लिए मारे पास
कोई शब्द ही नहीं है । भारत – हॉलैंड के बीच सेतु का यह माध्यम सदियों तक चलता
रहे,यही अभिलाषा है।
आप को पर्यटन पर कुछ आलेख शीघ्र भेजूँगा ।
शेष शुभ
प्रदीप श्रीवास्तव
संपादक
प्रणाम पर्यटन
(हिन्दी त्रैमासिक )
*********************************************************************************************************
हिंदी साहित्य का रेवड़ी युग ::
बहुत अच्छी जानकारी ।बधाई हो
मनोज शर्मा
*********************************************************************************************************

 

Recent Posts