पत्र

पत्र

पत्र , पत्रिका और पाठकों के बीच संवाद का माध्यम हैं।

आपके पत्र हमारा मनोबल बढ़ाते है। हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं।

आपके अपने खट्टे मीठे पत्रों की इस दुनिया में आपका स्वागत है…
*********************************************************************************************************

 महाशय,
आपके संपादन में प्रकाशित हिन्दी त्रैमासिक पत्रिका अम्स्टेल गंगा (समकालीन सोच-संस्कृति की प्रथम हिन्दी पत्रिका) से रुबरु हुआ। अत्यंत हर्ष का विषय है कि भारत व नीदरलैंड्स की साझी संस्कृति व विरासत को एक मंच पर लाने का काम आपके माध्यम से किया जा रहा है जो पूरे विश्व में हिन्दी के प्रचार-प्रसार की दिशा में एक अद्भुत कदम है। भारतीय संस्कृति, दर्शन, अध्यात्म व विचारों को साहित्य की विभिन्न विद्याओं के माध्यम से विश्व पटल पर लाने का इससे बड़ा स्वर्णिम प्रयास और कुछ हो नहीं सकता। आपकी त्रैमासिक ई-पत्रिका अम्स्टेल गंगा की दिन-व-दिन तरक्की की कामना करता हूँ।
प्रियवर, आपके त्रैमासिक ई-पत्रिका अम्स्टेल गंगा में प्रकाशनार्थ अपनी कुछ रचनाएँ आपके अवलोकनार्थ व ई-पत्रिका में प्रकाशनार्थ भेजने के इच्छुक हूँ। इस पत्रिका के लिये मेरा यह प्रथम प्रयास है।
आशा है आपके सेवार्थ भेजी जा रही रचनाएँ प्रकाशनार्थ अवश्व स्वीकृत कर ली जाऐंगी। सभी लघुकथाएँ व कविताएँ स्वलिखित, मौलिक व अप्रकाशित हैं।
सादर नमन।
अमरेन्द्र सुमन
*********************************************************************************************************
आदरणीय अमित जी ,अखिलेश जी व पुष्पिता जी
नमस्कार
किसी भी पत्रिका का तेइसवें अंक के प्रकाशन तक पहुंचना हिंदी साहित्य के लिए सम्पादकीय निष्ठा दिखाता है। हम लोग आभारी हैं कि ये पत्रिका भारत व नीदरलैंड के बीच एक सेतु की तरह तो कार्य कर रही हैं ,साथ ही प्रतिष्ठित लेखकों की रचनाओं के प्रकाशन के साथ नवोदितों केलिए मंच दे रही है। मेरी बधाई व शुभकामनाएं आपके साथ हैं।
नीलम कुलश्रेष्ठ ,पूना
*********************************************************************************************************
मै पिछले चौदह वर्षों से नीदरलैंड में रहती हूँ व समय समय पर हिन्दी की पत्र पत्रिकाओं मे लिखती हूँ इस बार मैने अम्स्टेल गंगा के बारे में सुना बहुत खुशी हुई क्या आप मेरे पते पर आपकी पत्रिका भेज सकते हैं?
ऋतु ननन पांडे
नीदरलैंड्स
*********************************************************************************************************
अमित जी ,
नमस्कार
अकरम जी को लेकर आपने इस मैगजीन को और मजबूत किया है , आपको साधुवाद और अकरम जी को बधाई ।
आपका
अवधेश सिंह
*********************************************************************************************************
सलाखों में बंद :
बहुत सुंदर रचना ।
हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं।
विदुषी शर्मा
*********************************************************************************************************
केदार आपदा :
वाह।एक अच्छे प्लेटफॉर्म पर अच्छी कविता के साथ प्रवेश।बधाई।
राकेश जुगरान
*********************************************************************************************************
और पब्लिक हँसी :
सुन्दर रचना ।
विक्रमजीत
*********************************************************************************************************
विकास की गंगा :
बहुत अच्छा लिखा है आपने, बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं
स्मृति श्रीवास्तव
*********************************************************************************************************
सलाखों में बंद :
बहुत ही बढ़िया रचना।
संजीव कुमार साधु
*********************************************************************************************************
कुर्सी :
प्रभावी लघुकथा. बधाई अनघा जी
मुरलीधर वैष्णव
*********************************************************************************************************
डीएनए टेस्ट:
नया विषय, नया तेवर .बहुत ख़ूब
मुरलीधर वैष्णव
*********************************************************************************************************
डीएनए टेस्ट:
नये युग की कथा।
विष्णुप्रसाद चतुर्वेदी
*********************************************************************************************************
घर के भगवान :
बहुत सुंदर.. भावपूर्ण कथा!
दीपशिखा श्रीवास्तव
*********************************************************************************************************
घर के भगवान :
अपना ही बेटा इतना निष्ठुर हो सकता है कल्पना से परे है लेकिन बहू की आत्मीयता मन को छू रही है।बेहतरीन कथा
नीलिमा
*********************************************************************************************************
घर के भगवान :
घर के बड़ों -बुज़ुर्गों के आशीर्वाद के बिना हम सुखी नहीं रह सकते । लघुकथा में इस संदेश को पिरोया गया है ।बेटा बदल जाता है ।तब बहू अपने सास – ससुर को अपनाने के लिये सशक्त कदम उठाती है ।
कुंडी खिड़की दरवाजे के मानवीकरण ने कथा की संवेदनशीलता को बढ़ाया है । कांता से भविष्य में लघुकथा साहित्य जगत को बहुत अपेक्षाएँ हैं ।
विभा रश्मि
*********************************************************************************************************
घर के भगवान :
बहुत बढिया सार्थक लघुकथा।
पवन जैन
*********************************************************************************************************
सपनों का शहर :
बहुत सुन्दर फोटोग्राफ ,
सुरेन्द्र वर्मा
*********************************************************************************************************
पीले फूल :
पीले फूल – बहुत सुन्दर कला कृति |
सुरेन्द्र वर्मा
*********************************************************************************************************
रिहाई :
संवेदना से परिपूर्ण कथा। बधाई।
विष्णुप्रसाद चतुर्वेदी
*********************************************************************************************************

Recent Posts