पत्र

पत्र

पत्र , पत्रिका और पाठकों के बीच संवाद का माध्यम हैं।

आपके पत्र हमारा मनोबल बढ़ाते है। हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं।

आपके अपने खट्टे मीठे पत्रों की इस दुनिया में आपका स्वागत है…
*********************************************************************************************************

पत्रिका का स्वागत है। हालैंड से हिंदी की पहली पत्रिका है इसलिए भी स्वागत है। मुझे प्रसन्नता है कि हिंदी विश्व में हालैंड भी एक महत्वपूर्ण देश बन गया है।
आप पत्रिका को विश्व के कोने कोने तक पहुंचायें और हिंदी का विस्तार करें। यदि संभव हो तो सभी अंक मेरे ईमेल पर भिजवायें। शुभकामनाओं के साथ,
कमल किशोर गोयनका
उपाध्यक्ष
केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा
मानव संसाधन विकास मंत्रालय
भारत सरकार
*********************************************************************************************************
मान्यवर
अम्स्टेल गंगा का अंक २२ प्राप्त हुआ बहुत बहुत धन्यवाद | पत्रिका ने मन  प्रसन्न किया |  श्री विष्णु प्रसाद जी और सविता मिश्रा जी की कहानिया बहुत अच्छी लगी दोनों लेखकों को हार्दिक बधाई |
धन्यवाद
सविता अग्रवाल “सवि” ,केनेडा
*********************************************************************************************************
उत्कृष्ट साहित्यिक सामग्री से सज्जित बेहतरीन अंक।
सम्पादकीय मंडल को हार्दिक बधाई।
संगीता गाँधी
*********************************************************************************************************
सम्मानित सम्पादक महोदय
आपकी पत्रिका का उद्देश्य काफी अच्छा लगा
आप अपने उद्देश्यों में सफल हो यही मेरी कामना है

मोहन पांडेय
सहायक प्रोफेसर हिंदी
श्रीनाथ संस्कृत महाविद्यालय हाटा कुशीनगर उत्तर प्रदेश भारत
निदेशक गांधी अध्ययन केंद्र श्रीनाथ संस्कृत महाविद्यालय हाटा कुशीनगर

*********************************************************************************************************
हार्दिक बधाई। शुभकामनाएं।
दिविक रमेश
*********************************************************************************************************
नमस्ते सर
आप ने पत्रिका में मेरे लेख को शामिल किया है, बहुत बहुत धन्यवाद सर। हिंदी के लिए आप का प्रयास यूं ही बना रहे । पत्रिका की सफलता के लिए ढेरों शुभकामनाएं।
कल्पना गवली।
*********************************************************************************************************
आप का बहुत बहुत आभार आप की पत्रिका से अवगत कराया। में जरूर अपना आलेख भेजूगा।
डॉ कामराज सिन्धु गुरुजी
अध्यक्ष हिंदी विभाग दूरवर्ती शिक्षा निदेशालय कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र।
प्रधान संपादक शोध दर्पण मासिक पत्रिका।
संस्थापक चेयरमैन ग्लोबल हिंदी साहित्य शोध संस्थान भारत।
हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय हिंदी साहित्यिक सम्मेलन करवाया टोरोंटो कनाडा में सम्मेलन का संयोजक
*********************************************************************************************************
हिन्दी की इस अतिविशिष्ट जागरूकता के लिए आभार
सादर
अवधेश सिंह
*********************************************************************************************************
बहुत अच्छा अंक है | मेरी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ…|
सादर,
प्रियंका
*********************************************************************************************************
आपका प्रयास प्रशंसनीय है और इसे देखकर प्रसन्नता होती है ।
इसी संदर्भ में जानने की जिज्ञासा है कि यदि पत्रिका के आगामी अंकों के बाल-स्तम्भ हेतु आपको मेरे द्वारा प्रेषित सामग्री में रुचि हो और आप इसे स्थान देना चाहें तो मैं सहर्ष प्रस्तुत हूँ ।
कृपया निर्णय से अवगत करायें ।
सस्नेह
आइवर यूशिएल
*********************************************************************************************************
अच्छा प्रयास।दूर रहकर भी हिंदी और हिंदुस्तानियों जो जोड़ने का प्रयास । जय भारत,जय नीदरलैण्ड
सीमा शर्मा
*********************************************************************************************************
आदरणीय सम्पादक जी
एम्स्टल गंगा के अन्य अंकों की भांति यह अंक भी नायाब, जनोपयोगी और सार्थक रचनाओं का सुगन्धित समावेश लिए है। पत्रिका में स्थान देने हेतु हार्दिक आभार
सादर
रमेशराज
*********************************************************************************************************
स्तब्ध:
बहुत खूबसूरत लेखन…। वाह…। बधाई स्वीकार करें सत्या जी…।
संदीप कुमार शर्मा
*********************************************************************************************************
स्तब्ध:
बहुत ही खूबसूरत और रहस्यों का उद्घाटन करती हुई
आशा सिंह
*********************************************************************************************************
एक गिलास पानी:
अत्यंत रोचक, दिलचस्प और सन्देश देती लघुकथा लिखी है, बधाई डॉ. चंद्रेश कुमार छ्तलानी जी
पल्लवी सोनी
*********************************************************************************************************
एक गिलास पानी:
अद्भुत सृजन… बहुत ही अच्छी लघुकथा
हिमकर जोशी
*********************************************************************************************************
दही की दमक:
बिलकुल सही । दही की महिमा न्यारी है। एक बेहतरीन रचना के लिए साधुवाद ।
डॉ आशा चौधरी
*********************************************************************************************************
जेठ-दुपहरी:
सुन्दर कविता। बधाई।
डा.सुरेन्द्र वर्मा
*********************************************************************************************************

Recent Posts