पत्र

पत्र

पत्र , पत्रिका और पाठकों के बीच संवाद का माध्यम हैं।

आपके पत्र हमारा मनोबल बढ़ाते है। हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं।

आपके अपने खट्टे मीठे पत्रों की इस दुनिया में आपका स्वागत है…
*********************************************************************************************************

कमाल है …मै प्रतीक्षा ही कर रही थी !

कुछ रचनाएँ भेज भी रही थी ..

दुःख तो हुआ। ..पर इंतज़ार रहेगा !

प्रभु करे अम्स्टेल गंगा की धारा  गंगा जैसी हो ….विमल और सुदूर फैली !!
सादर

ज्योत्स्ना प्रदीप

*********************************************************************************************************
आपका जज्बा बना रहे। मुश्किलें भी मुहिम का हिस्सा ही हुआ करती हैं। सफलता हेतु शुभकामनाएँ।

बलराम अग्रवाल

*********************************************************************************************************
हम आपके साथ हैं
पंकज त्रिवेदी
संपादक – विश्वगाथा (हिन्दी साहित्य की त्रैमासिक  प्रिंट पत्रिका)

*********************************************************************************************************
बाधाओंए से डरो नहीं , “कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ” |
भगवान पर विश्वास रखो | सब ठीक होगा |

श्याम त्रिपाठी , हिंदी चेतना ,
कनाडा

*********************************************************************************************************
आदरणीय अमित जी ,
कोई बात नहीं | हम आपके साथ हैं |
कृष्णा कुमारी

*********************************************************************************************************
प्रिय अमित जी,

हमें विश्वास है,  आप एक नई ऊर्जा और उत्साह के साथ जुलाई अंक को स्मरणीय अभिनव अंक बना देंगे. अप्रैल अंक को हम मिस अवश्य करेंगे,पर जुलाई अंक उस अभाव को भुला देगा. आपके महत्वपूर्ण कार्य के लिए बहुत बधाई

जुलाई अंक और भविष्य के अंकों के लिए अनेकों मंगल कामनाएं.
सस्नेह,

पुष्पा सक्सेना.

*********************************************************************************************************
आदरणीय सम्पादक जी,

आपकी पत्रिका इंतज़ार तो रहता ही है. तकनीकी कारणों से इस बार का अंक प्रकाशित नहीं हो पाया, इसका हार्दिक दुःख है, लेकिन आश्वस्ति भी है कि आपका सद्कर्म सतत बना रहेगा. आपके और आपकी टीम के समृद्ध प्रयास से अगला अंक सबसे अच्छा साबित हो, इसी उम्मीद के साथ हार्दिक शुभकामनाएँ..

शुभातिशुभ
सौरभ पाण्डेय
नैनी, इलाहाबाद (भारत)
***********************
ऐसी समस्यायें आती रहती हैं , पाठक इन्तजार कर लेंगे |

इला

*********************************************************************************************************

अगले अंक की प्रतीक्षा रहेगी…|

शुभकामनाएँ…
प्रियंका

*********************************************************************************************************
मेरी शुभाकांक्षाएँ सदैव अम्स्टेल गंगा-परिवार के साथ हैं ।
हरीदास व्यास
*********************************************************************************************************

अगले अंक के लिए शुभकामनाएं
आरती स्मित

*********************************************************************************************************
प्रिय संपादक  मित्रो,

अम्सटेळगंगा का नवीन अंक देख कर आवरण  पृष्ठ के सुन्दर पुष्पों की तरह  मन खुशी से खिल गया. जितना ही सुन्दर पत्रिका का कलेवर है, उतनी ही विविधतापूर्ण पठनीय सामग्री है.आप सब के महती प्रयासों के लिए हार्दिक बधाई. हॉलैंड से इतनी सुन्दर एवं सुरुचिपूर्ण पत्रिका प्रकाशित कर के आप हिन्दी की लोकप्रियता में सतत अभिवृद्धि कर रहे हैं.
अपनी पत्रिकामें मेरी कहानियों को स्थान देने से आपके प्रति आभारी हूँ तथा गौरवान्वित अनुभव करती हूँ. यह मेरा सौभाग्य है कि पत्रिका के माध्यम से मेरी कहानियां अनेकों देश-विदेश के पाठकों तक पहुँच रही हैं,
शुभ कामनाँ सहित,

डॉ पुष्पा सक्सेना

*********************************************************************************************************
सादर प्रणाम आदरणीय

मै समस्त  सम्पादकीय मण्डल की ह्रदय से आभारी हूँ..जिन्होंने मेरी रचनाओं को इस  लोकप्रिय  पत्रिका  अम्स्टेल गंगा में स्थान दिया …ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है । समस्त सम्पदकीय मण्डल को हार्दिक शुभकामनाएँ ।  सभी विधाओं से सजी पत्रिका  बहुत  रोचक है ।  अभी कुछ रचनाकरो को ही पढ़ पाई हूँ   सभी रचनाएँ बहुत खूबसूरत और सार्थक हैं  । सादर धन्यवाद

सुनीता काम्बोज

*********************************************************************************************************
माननीय सम्पादक महोदय/महोदया

नमस्कार
हिंदी साहित्य को जागृत एवं अग्रसर बनाए रखने में अम्स्टेल गंगा का यह सराहनीय एवं सफल प्रयास है.इस पत्रिका को मेरी शुभकामनाएँ एवं बधाई. मैं भी इस पत्रिका का हिस्सा बनना चाहती हूँ, क्या अपनी रचनाएं इसमें भेज सकती हूँ, कृपया सूचित करें.
आभार
गीता दुबे

*********************************************************************************************************
अम्स्टेल गंगा
अमित कुमार सिंह
अम्स्टेल गंगा परिवार

नमस्कार,

अम्स्टेल गंगा के सभी अंक सराहनीय है सबसे पहले तो परिवार को मैं बधाई देना चाहती हूँ. हिंदी के लिए यूँ ही सबका प्यार बढ़ता रहे और हमें भी कुछ नया ज्ञान प्राप्त होता रहे.
अम्स्टेल गंगा पत्रिका  के लिए मेरी कहानी भेज रही हूं.आशा है मेरी रचना को आपकी पत्रिका में स्थान मिलेगा.
धन्यवाद.
डा.कल्पना गवली
एसोसियेट प्रोफेसर,
हिंदी विभाग,
कला संकाय, महाराजा सयाजी राव विश्वविधालय, बडौदा.

*********************************************************************************************************
हार्दिक बधाई आदरणीय ! सुन्दर काव्य,कथा साहित्य ,आलेख एवं व्यंग्य से सजा अंक बेहद प्रभावी है | कलादीर्घा के चित्रों ने मन मोह लिया |

पुनः बधाई ,बहुत शुभकामनाएँ !!
सादर

ज्योत्स्ना शर्मा
गुजरात, भारत

*********************************************************************************************************

Recent Posts