पत्र

पत्र

पत्र , पत्रिका और पाठकों के बीच संवाद का माध्यम हैं।

आपके पत्र हमारा मनोबल बढ़ाते है। हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं।

आपके अपने खट्टे मीठे पत्रों की इस दुनिया में आपका स्वागत है…
*********************************************************************************************************

सादर धन्यवाद आदरणीय मेरी लघुकथा ”  संवेदना ” को स्थान देने के लिए ।
सादर आभार सहित
सत्या शर्मा ‘ कीर्ति ‘
*********************************************************************************************************
संवेदना::
बहुत सुन्दर मर्मस्पर्शी सृजन बधाई एंव शुभ कामनायें सत्या जी..
अंजना बाजपेई
*********************************************************************************************************
संवेदना ::
रक्षा बंधन निकट ही है ,एक सामयिक मार्मिक लघुकथा | बधाई |
सुरेन्द्र वर्मा |
*********************************************************************************************************
संवेदना::
सत्या कीर्ति जी हार्दिक बधाई ….ह्रदयस्पर्शी लेखन सखी ।
सुनीता काम्बोज
*********************************************************************************************************
दुख::
बहुत सुन्दर कविता।
स्वाति
*********************************************************************************************************
स्वप्न को समर्पित::
लघुकथा विधा में अभिनव शिल्पगत प्रयोग का उत्तम उदाहरण है। लेखक की गहन अंतर्दृष्टि समाज के हर उस अँधेरे कोने में गयी है जो उसे बेचैन करता है। धारदार पञ्च पंक्ति से निष्कृत कथ्य आज के आदमी को परिभाषित करता है। प्रशंसनीय।
सविता गुप्ता
*********************************************************************************************************
स्वप्न को समर्पित ::
सुन्दर सांकेतिक लघुकथा | सोचने को बाध्य करने वाली |
सुरेन्द्र वर्मा |
*********************************************************************************************************
एक था बचपन ! ::
बहुत अच्छा लिखा है आपने सिद्दार्थ जी।
विजयश्री
*********************************************************************************************************
एक था बचपन ! ::
वाह। .सही है। वापस नहीं जाना है बस सिर्फ दिशा बदलनी है।
रोहित सिन्हा
अमेरिका
*********************************************************************************************************
एक था बचपन ! ::
बहुत ही बढ़िया लिखा है । वैसे ये आज हर कोई महसूस कर रहा है पर उसको शब्दो मे उतारना भी एक कला है।
सिद्धार्थ ने बहुत सुंदरता से ये काम किया है।
आशीष कुमार “नीरज “
*********************************************************************************************************
प्रतिबिम्ब::
आकर्षक कृति |
सुरेन्द्र वर्मा
*********************************************************************************************************
फर्क पड़ेगा::
आदमी जितना व्यावहारिक होता जाता है उसकी सम्वेदनाएं भी कुंठित होती जाती हैं | बच्चों से काफी कुछ सीखा जा सकता है लघुकथाकार को बधाई |
सुरेन्द्र वर्मा |
*********************************************************************************************************
मोहमाया::
सच ऐसे ढोंगियों को सहन कर पाना कितना कठिन होता है |
सुरेन्द्र वर्मा |
*********************************************************************************************************
मैडम का खेल::
आज की शिक्षा स्थिति पर सुन्दर व्यंग्य | एकदन सटीक |
सुरेन्द्र वर्मा |
*********************************************************************************************************
बहुत सुन्दर अंक। पत्रिका परिवार को शुभकामनाएं।
के. पी. अनमोल
प्रधान संपादक
हस्ताक्षर वेब पत्रिका
*********************************************************************************************************
बहुत अच्छा अंक है, मेरी हार्दिक बधाई…|
सादर,
प्रियंका
*********************************************************************************************************
बहुत-बहुत धन्यवाद अमित जी व अम्स्टेल गंगा परिवार ! मेरी लेखनी को प्रोत्साहन देने के लिए ।
और ढ़ेरों शुभकामनाएँ  ’अम्स्टेल गंगा’ के उन्नीसवें अंक के प्रकाशन पर ।
सादर ,
रेणुका बड़थ्वाल
*********************************************************************************************************
आदरणीय संपादक जी
नमस्कार
महोदय हिन्दी एक ऐसी भाषा है जिसमें जीवन की कोमलता के साथ मानवीय मूल्यों आस्थाओं और संघर्ष का वह स्वरूप मिलता है जो दुनिया के अस्तित्व के लिए आक्सीजन से कम नहीं ।
आपकी कोशिश और उत्साह का समन्वय प्रेरक है उन लोगों के लिए जो इस दिशा में सक्रिय है ।
रिपोर्ट को प्रकाशित करने के लिए आभार व धन्यवाद
अनुरोध है की “पेड़ों की छांव तले रचना पाठ” चौतीसवी साहित्यिक गोष्ठी : सम्पन्न – अवधेश सिंह
की रिपोर्ट में कुछ तस्वीरे भी होती तो बेहतर होता ।
सादर
अवधेश सिंह
*********************************************************************************************************
मोक्षेन्द्र मनोज की कहानी ” आकथू ” की दर्दनाक यथार्थ बिखेरती कुछ पंक्तिया …………….
बहरहाल, घंटाघर के अग्रवाल समोसेवाले की कमाई तो देखिए–रोज़ कम-से-कम पचास हजार का मुनाफ़ा तो कमाता ही होगा वह। लेकिन, टैक्स के रूप में वह सरकार को क्या देता होगा–बस, खींस निपोरकर ठेंगा दिखा देता होगा!
गुड़मंडी के कोनेवाले दुकानदार की आमदनी रोज़ाना एक लाख से क्या कम होगी? उसे हर हफ़्ते बोरे में आठ-दस लाख रुपए लेकर घंटाघर वाले बड़ौदा बैंक में जमा करते हुए देखा है।
हाँ, मधुर बाबू ने अपनी आँखों से कई बार उसे वहाँ मोटी रकम जमा करते तब देखा है जबकि वह गृहस्थी के तेल-फ़ुलेल खरीदने के लिए उसी बैंक से हजार-दो हजार निकालने जाते थे।
आज भी उस बनिए को ग्राहकों के सामने सरकारी बाबुओं की एक लाख बुराई करते हुए सुना जा सकता है। जबकि आलम यह है कि सरकारी दफ़्तरों में बेतहाशा छंटनी होने और नई भर्तियाँ न होने के चलते कर्मचारियों की इतनी ही किल्लत पड़ गई है, जितनी की हर साल सितंबर माह से प्याज और लहसुन की किल्लत शुरू हो जाती है।
एक-एक कर्मचारी चार-चार बाबुओं के बराबर काम करने को अन्यथा आत्महत्या करने को मज़बूर है। रिटायर्मेंट के बाद तो वह फ़ंड में जमा-पूँजी को बाल-बच्चों के शादी-ब्याह में खर्च कर देता है। बुढ़ापे के लिए उसके पास क्या बचता है–बस, बाबाजी का ठुल्लू।
भारतीय अर्थ तंत्र के खोखलेपन को बहुत बारीकी से बयान करती हैं ……………………
सुरेंद्र कुमार अरोड़ा
*********************************************************************************************************
ग़ज़ल – अमित “अहद” ::
बहुत ही सुन्दर।  भई वाह , लाज़वाब ।
बधाई हो
सुजीत कुमार
*********************************************************************************************************
अम्स्टेल गंगा का अन्य अंकों की भांति यह अंक भी साहित्यिक दृष्टि से अतुलनीय | सम्पादक महोदय एवं समस्त सम्पादक मंडल को हार्दिक साधुवाद
रमेशराज
*********************************************************************************************************
हाइकु – शालिनी ‘शालू’ ::
मानवीय संवेदना पर आधारित सुंदर हाइकु रचनायें, कवयित्री को बधाई|
किशोर कुमार निर्वाण
*********************************************************************************************************
प्रकृति की कला::
बहुत सुन्दर कृति | बधाई |
सुरेन्द्र वर्मा
*********************************************************************************************************
रक्षा बंधन निकट ही है | एक सामयिक मार्मिक लघुकथा | बधाई |
सुरेन्द्र वर्मा |
*********************************************************************************************************
पाचवा अध्याय समाप्त::
कथा के बहाने भ्रष्टाचारियों को अच्छी सीख | पर समझें, तब न | बधाई |
सुरेन्द्र वर्मा |
*********************************************************************************************************

Recent Posts