पत्र

पत्र

पत्र , पत्रिका और पाठकों के बीच संवाद का माध्यम हैं।

आपके पत्र हमारा मनोबल बढ़ाते है। हमें और बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं।

आपके अपने खट्टे मीठे पत्रों की इस दुनिया में आपका स्वागत है…
*********************************************************************************************************

सुंदर एवं सराहनीय प्रयास के लिए पूरी टीम को बहुत बहुत शुभकामनाएं ।

डॉ. अवधेश प्रताप सिंह ‘संदल’
*********************************************************************************************************

मीरा से आलोकित भक्ति-जगत :

अब तक मीरा पर इतनी गहरी और रोचक जानकारी पहले नहीं पढ़ी
मंशा नायक
======>

जितना आनंद आपके आलेख को पढ़कर आया उतना ही आनंद आपके परिचय को पढ़कर आया । आजकल जबकि वृक्ष काटे जा रहे है तब आपने वक्षारोपण कर उनकी डेक रेख का जिम्मा भी लिया है ।
बहुत साधुवाद आपके इस नेक कार्य हेतु और लेखन कर्म को भी हार्दिक शुभकामनायें । जब कभी जोधपुर आना हुआ तो आपके दर्शन का सुख पाना चहुंगी ।
अन्नपूर्णा बाजपेयी

*********************************************************************************************************

अकेलेपन का एहसास ::

दिल को छू गई सर।
डॉ अभिषेक कुमार पटेल

======>

बहुत प्यारी लघुकथा।

मेरी समझ से आजकल की अति व्यस्त जिंदगी और दिनचर्या की वजह से परिवार की उपेक्षा हो रही है। अपने माता पिता को प्यार करें। .अपने परिवार को प्यार करें।
हरेंद्र यादव

======>

आदरणीय श्रीमान ,

यह बहुत ही दिल को छू लेने वाली कहानी थी और ऐसा लग रहा था की मनो आपने अपना दिल ही भावनाओं के रूप में बाहर निकल दिया हो।

अति उत्तम।
प्रमेश गुप्ता

======>

अति उत्तम।
डॉ एन के सिंह

*********************************************************************************************************

दक्खिनी हिंदी साहित्य के विकास में हिन्दू पंथ एवं संतो का योगदान :

उत्कृष्ट आलेख !
अन्नपूर्णा बाजपेयी

*********************************************************************************************************

जीवन की व्यावहारिकता :
अदभुत , लिखते रहो।

नमिता

======>

बहुत खूब ! उत्कृष्ट रचना !
अन्नपूर्णा बाजपेयी

*********************************************************************************************************

ग़ज़ल – महबूब सोनालिया:

अर्श से लौट आती है हर इक दुआ।
माँ के आमीन वाले असर के लिए।——–वाह -वाह क्या खूब शेर ! बहुत बहुत बधाई आपको !

अन्नपूर्णा बाजपेयी

*********************************************************************************************************

ग़ज़ल – राजन स्वामी :

अति सुन्दर लाइनें प्रस्तुत की हैं राजन जी।
राजी

======>

बहुत सुन्दर।

अखिल कुमार
*********************************************************************************************************

बच्चा मांगता है रोटी :

अम्स्टेल गंगा का बीसवां अंक पठनीय सामग्री खासतौर पर कविता कहानी लेखादि से पाठकों को कुछ न कुछ सोचने पर विवश करता है | बेहतरीन सामग्री का चयन सम्पादक महोदय के सूझ-बूझ भरे परिश्रम का परिचायक | बेहतरीन अंक हेतु कोटिशः धन्यवाद | कविता ‘ बच्चा माँगता है रोटी” को प्रकाशित करने हेतु हार्दिक आभार |
सादर-रमेशराज

*********************************************************************************************************

सेल्फी ! एक एहसास :

आपकी व्याख्या बहुत अर्थपूर्ण है। लेख को बहुत ही अच्छे तरीके से लिखा है। बधाई हो सिद्दार्थ। आशा करता हूँ ही इस तरह के और आपके अर्थपूर्ण लेख आते रहेंगे।

मनोज बत्रा

*********************************************************************************************************

श्रीमद्भगवद्गीता में संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा का स्वरूप :

प्रथमतया मैं अपना आभार अभिव्यक्त करना चाहता हूं कि आप की पत्रिका में मेरे लेख को स्थान दिया अत: मैं धन्यवाद देना चाहूंगा
द्वितीय यह तो निश्चित है कि विषय कतिपय मानवीय सौच एवं गीता द्वारा प्रदत्त अंतरदृष्टि से है अत: किसी भी व्यक्ति के काम आ सकता है जो किसी परिस्थिति में निर्णय लेने मे असमर्थ हैं अत: आशा करता हूं कि इस लेख के माध्यम से किसी की सहायता हो सके तो ईश्वर की अतीव अनुकम्पा होगी

आदित्य आंदिरस

*********************************************************************************************************

एक शहर, दो कुत्ते और कुछ लोग :
शानदार व्यंग।
कीर्ति प्रकाश चरन

*********************************************************************************************************

Recent Posts