दोहे : डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा

झूले,गीत ,बहार सब ,आम,नीम की छाँव |

हमसे सपनों में मिला ,वो पहले का गाँव ||१

 

सूरज की पहली किरन ,पनघट उठता बोल |

छेड़ें बतियाँ रात की , सखियाँ करें किलोल ||२

 

गगरी कंगन से कहे ,अपने मन की बात |

रीती ही रस के बिना ,बीत न जाए रात ||३

 

अमराई बौरा गई , बहकी बहे बयार |

सरसों फूली सी फिरे ,ज्यों नखरीली नार ||४

 

कच्ची माटी ,लीपना ,तुलसी वन्दनवार |

सौंधी-सौंधी गंध से ,महक उठे घर-द्वार ||५

 

बेला भई विदाई की ,घर-घर हुआ उदास |

बिटिया पी के घर चली ,मन में लिए उजास ||६

 

सोहर बन्ने गूँजते ,आल्हा ,होली गीत |

बजे चंग मस्ती भरे ,कण-कण में संगीत ||७

 

संध्या दीप जला गई ,नभ भी हुआ विभोर |

उमग चली गौ वत्सला ,अपने घर की ओर ||८

 

बहकी-बहकी सी पवन ,महकी-महकी रात |

नैनन-नैन निहारते ,तनिक हुई ना बात ||९

 

नींद खुली ,अँखियाँ हुईं ,रोने को मजबूर |

लेकर थैली ,लाठियाँ ,गाँव नशे में चूर ||१०

 

जात-धर्म के नाम पर ,बिखरा सकल समाज |

एक खेत की मेंड़ पर , चलें गोलियां आज ||११

 

कैसे मैं धीरज धरूँ ,दिखे न कोई रीत |

कैसे पाऊँगी वही ,सावन ,फागुन , गीत ||१२

 

दिए दिलासा दे रहे ,रख मन में विश्वास |

हला! न हिम्मत हारिए ,जलें भोर की आस ||१३

 

तम की कारा से निकल ,किरण बनेगी धूप |

महकेगी पुष्पित धरा ,दमकेगा फिर रूप ||१४

 

- डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा 

जन्म स्थान : बिजनौर (उ0प्र0)
शिक्षा : संस्कृत में स्नातकोत्तर उपाधि एवं पी-एच 0 डी0
शोध विषय : श्री मूलशंकरमाणिक्यलालयाज्ञनिक की संस्कृत नाट्यकृतियों का नाट्यशास्त्रीय अध्ययन |
प्रकाशन : ‘यादों के पाखी’(हाइकु-संग्रह ), ‘अलसाई चाँदनी’ (सेदोका –संग्रह ) एवं ‘उजास साथ रखना ‘(चोका-संग्रह) में स्थान पाया |
विविध राष्ट्रीय,अंतर्राष्ट्रीय (अंतर्जाल पर भी )पत्र-पत्रिकाओं ,ब्लॉग पर यथा – हिंदी चेतना,गर्भनाल ,अनुभूति ,अविराम साहित्यिकी ,रचनाकार ,सादर इंडिया ,उदंती ,लेखनी , , यादें ,अभिनव इमरोज़ ,सहज साहित्य ,त्रिवेणी ,हिंदी हाइकु ,विधान केसरी ,प्रभात केसरी ,नूतन भाषा-सेतु आदि में हाइकु,सेदोका,ताँका ,गीत ,कुंडलियाँ ,बाल कविताएँ ,समीक्षा ,लेख आदि विविध विधाओं में अनवरत प्रकाशन |

सम्प्रति निवास : वलसाड , गुजरात (भारत )

One thought on “दोहे : डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>